काल भैरव अष्टमी पर जरूर करें शराब का यह टोटका, बना जाएंगे अमीर

आप सभी जानते ही हैं कि आज यानी 29 नवंबर 2018 गुरुवार को कालभैरव जयंती है ऐसे में कहा जाता है इस दिन भगवान शिव ने कालभैरव रूप में अवतार लिया था और कृष्णाष्टमी को मध्याह्न के समय भगवान शंकर के अंश से भैरव रूप की उत्पत्ति हुई थी. वहीं भगवान भैरव से काल भी भयभीत रहता है इस कारण से इसलिए उन्हें कालभैरव भी कहा जाता है. वहीं भैरवाष्टमी हमें काल का स्मरण करवाती है और इस दिन कई उपाय है जो किए जा सकते हैं. वही कहते हैं जो व्यक्ति काल भैरव की भक्ति करता है उसके पाप अपने आप ही दूर हो जाते हैं और उनकी मृत्यु के बाद उनके भक्तों को शिवलोक में ख़ास स्थान प्राप्त होता है.

आप सभी को बता दें कि काल भैरव के 52 रूप माने गए हैं. कहते हैं भैरव बाबा को शराब बहुत प्रिय है और उनके मंदिरों में शराब का प्रसाद अर्पित करना लाभदायक माना जाता है. वहीं कहते हैं भैरव बाबा को शराब चढ़ाकर अपनी मनोकामना बता देने से वह तुरंत पूरी हो जाती है. आप सभी को बता दें कि काल भैरव अष्टमी के दिन ऐसी शराब खरीदें जिसका रंग गौ मूत्र के समान हो और फिर सोते समय उसे अपने तकिए को पास रखें. उसके बाद अगले दिन उसे भैरव बाबा के मंदिर जाकर कांसे के कटोरे में डालकर आग लगा दें.

ऐसा करने से राहु का प्रभाव शांत होगा और आपके मन की सभी इच्छाएं पूरी हो जाएगी. आपको बता दें कि इसके बाद एक बार फिर मंदिर में जाकर शराब की बोतल चढ़ाकर किसी सफाई कर्मचारी को भेंट स्वरूप दें इससे आपकी आय में वृद्धि होगी.

कालाष्टमी के दिन भूलकर भी ना करें यह काम वरना ज़िंदगी भर रहेंगे परेशान

हर संकट से बचने के लिए पढ़े भैरव चालीसा का पाठ

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -