कहीं कोरोना के कारण रोनाल्डो को बेच न दे जुवेंटस

कहीं कोरोना के कारण रोनाल्डो को बेच न दे जुवेंटस

COVID-19 महामारी से घिरे इटली का फुटबॉल क्लब जुवेंटस वित्तीय संकट से उबरने के लिए अपने सुपरस्टार क्रिस्टियानो रोनाल्डो को अन्य क्लब को बेच सकता है. माना जा रहा है कि कोविड-19 के कारण अर्थव्यवस्था पर दीर्घकालिक असर पड़ेगा. माना जा रहा है कि वह अपने पुराने क्लब मैनचेस्टर यूनाइटेड या पेरिस सेंट जर्मेन क्लब में शामिल हो सकते हैं.

इटालियन मीडिया के अनुसार फुटबॉल के सामान्य स्थिति में लौटने के बाद भी जुवेंटस के लिए रोनाल्डो जैसे बड़े वेतनभोगी का खर्च वहन करना मुश्किल होगा. रोनाल्डो का हफ्ते भर का वेतन 5 लाख पौंड (लगभग 4.66 करोड़ रुपये) है.  हालांकि रोनाल्डो टीम के अन्य खिलाड़ियों और मैनेजर मारिजियो सेरी के साथ क्लब को वित्तीय संकट से उबारने के लिए अपनी चार महीने (मार्च से जून तक) की तनख्वाह में से कटौती करने को तैयार हो गए हैं. खिलाड़ी और मैनेजर ने कुल मिलाकर 752 करोड़ रुपये (90 मिलियन यूरो) छोड़ने का निर्णय लिया है. रोनाल्डो ने 2018 में जुवेंटस के साथ चार साल का करार किया था.

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक तब वह लगभग आठ अरब रुपये में इटली के इस क्लब में शामिल हुए थे. दिक्क्त यह भी आएगी क्योंकि अब 35 साल के स्टार की ट्रांसफर फीस भी कम हो सकती है. यह कोविड-19 के असर के कारण 28 प्रतिशत कम हो सकती है. अगर रोनाल्डो का खर्च जुवेंटस उठाने में समर्थ रहता है तो आरोन रामसे का भविष्य भी क्लब में खतरे में पड़ सकता है जिनकी सप्ताह भर की पगार लगभग तीन करोड़ 70 लाख रुपये से अधिक है. कोविड-19 के कारण दुनिया भर में इस समय अन्य खेलों के साथ फुटबॉल भी काफी प्रभावित हो रही है. मैच न होने के कारण क्लबों को टिकट से मिलने वाले राजस्व के अलावा आगे टीवी प्रसारण करार पर भी बड़ा असर पड़ सकता है.

कोरोना के खिलाफ जंग के मैदान में उतरे लॉर्ड्स, किया यह महान कार्य 

फैंस पर फूटा इस क्रिकेटर का गुस्सा, कहा- 'दान की हुई रकम के बारे में सवाल करना गलत'

क्रिकेट के दौरान नहीं पहन पाएंगे स्मार्ट वॉच खिलाड़ी, बोर्ड ने लगाई रोक