टीचर दिखने में एकदम गोविंदा हैं

टीचर दिखने में एकदम गोविंदा हैं

tyle="text-align:justify">टीचर का दम : 
टीचर का दर्जा माँ से भी बड़ा होता है क्योंकि माँ की लोरी से सिर्फ उसका बच्चा सोता है लेकिन टीचर के एक लेक्चर से क्लास के सारे बच्चे सो जाते है चाहे वो कितने छोटे हो या कितने बड़े हों।
........
टीचर और स्टूडेंट के पॉपुलर डायलॉग : 
टीचर : मै कोई बहाना नहीं सुनूंगी कल सबके नोट्स कंप्लीट होने चाहिए।
स्टूडेंट : यस, मैम (कल तो पक्का नहीं आना है )।
टीचर: जिसे इस सवाल का जवाब नहीं आता वो मेरी क्लास से बाहर चला जाए।
स्टूडेंट : यस मैम,(चल जल्दी बाहर जाने को मिल गया)।
टीचर : ये क्लास है मछली बाज़ार नहीं,चुपचाप अपना टेस्ट दो।
स्टूडेंट : यस मैम,(कुछ पढ़ाई ही नहीं तो क्या लिखे)।
टीचर : तुम्हारे जैसी क्लास मैंने पहली कभी नहीं देखी कितना शोर करते हो।
स्टूडेंट : सॉरी मैम,(कहाँ से देखती हम तो पहली बार आए है इस क्लास मे)
टीचर : अपना अपना एग्ज़ाम शांति से दो वरना सबको फेल कर दूँगी।
स्टूडेंट : यस मैम,(शांत रहने पर जैसे पास ही कर देंगे)।
टीचर : अपने हाथ ऊपर करके कोने मे खड़े हो जाओ।
स्टूडेंट : यस मैम,(कोने मे क्यूँ बाहर भेज देतीं मिस)।
........
चार लाइने : 
इंजीनियर की गलती ईंट गारे मे छुप जाती है।
डॉक्टर की गलती कब्र मे चुप जाती है।
वकील की गलती फाइल मे दब जाती है।
लेकिन एक शिक्षक की गलती देश की छवि मे झलकती है।
........
कविता :
ये हैं हमारे साइंस के टीचर, 
इनमे हैं अनेक मेन फीचर।
साइंस मे हैं वे हमारे लीडर, 
प्रॉब्लम सोल्व करे जैसे केल्कुलेटर।
ताकत उनकी इतनी सुपर, 
चाहें तो उठा ले स्कूटर।
पढ़ना उनका है एक गुण,
न है उनमे कोई अवगुण।
हम न करे उनकी निंदा, 
दिखने मे है एकदम गोविंदा।