बिहार विस चुनाव : ओवैसी और PM मोदी की मुलाक़ात के दावे के बाद गरमाई राजनीति

बिहार विस चुनाव : ओवैसी और PM मोदी की मुलाक़ात के दावे के बाद गरमाई राजनीति

नई दिल्ली : जनता दल यूनाइटेड (JDU) के नेता केसी त्यागी के ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात के दावे ने राजनीति को गरमा दिया है. इस विवाद पर भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद एमजे अकबर ने कहा, दोनों के बीच कभी कोई मुलाकात नहीं हुई. यह बिल्कुल झूठ है जिस अखबार ने भी यह खबर छापी है हम उन पर भी केस करेंगे. उन्होने मीडिया पर आरोप लगाते हुए कहा कि दुर्भाग्य से कुछ मीडिया संस्थान विरोधी पार्टियों से मिले हुए हैं और पीत पत्रकारिता कर रहे हैं.

क्या है मामला?

के सी त्यागी ने आरोप लगाया था कि असदुद्दीन ओवैसी और प्रधानमंत्री की सीक्रेट मुलाकात हुई थी. त्यागी ने यह भी पूछा था कि यह मुलाकात किसलिए थी, इसलिए कि अल्पसंख्यकों को आगे कैसे बढ़ाया जाए या इसलिए कि महागंठबंधन को कैसे हराया जाए. उन्होने दावा किया था कि ओवैसी को सीमांचल के क्षेत्रों में भाजपा की मदद के लिए भेजा गया है. ओवैसी का उद्देश्य मुसलिम वोटरों को बांटना है, ताकि भाजपा को फायदा मिले.

गौरतलब है कि इससे पहले राजद नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने ओवैसी को महागंठबंधन शामिल किए जाने की वकालत की थी. लेकिन इसके कुछ ही देर के बाद लालू ने ट्वीट करके इस तरह की खबरों को खारिज कर दिया था. इसके बाद ओवैसी ने नाराजगी जताते हुए कहा था कि हम किसी गंठबंधन में शामिल नहीं होंगे और अकेले ही चुनाव लड़ेंगे हमें किसी की मदद नहीं चाहिए.