क्या आपकी भी है स्पेस और साइंटिफिक रिसर्च में रुचि, तो करें ये फ्री ऑनलाइन कोर्स

कई बच्चों की स्पेस तथा साइंटिफिक रिसर्च में बहुत दिलचस्पी होती है. मगर कभी जानकारी की कमी में तो कभी रिसोर्स या वित्तीय समस्या के कारण उन्हें अपनी रुचि एवं करियर के साथ समझौता करना पड़ जाता है. यदि आप इस सेक्टर में करियर बनाना चाहते हैं तो इसरो के फ्री ऑनलाइन कोर्स आपके लिए सहायक सिद्ध हो सकते हैं. कोर्स पूरा हो जाने के पश्चात् इसरो की ओर से प्रमाण पत्र दिया जाएगा. अपना ख्वाब पूरा करने के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन की ओर से कराए जाने वाले मुफ्त ऑनलाइन कोर्स में पंजीकृत कर लें. इसरो ने इसी वर्ष 3 नए प्रोफेशनल कोर्स आरम्भ किए हैं, जो इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ रिमोट सेंसिंग (IIRS), देहरादून द्वारा आयोजित किए जा रहे हैं. वर्ष 2022 में यह कोर्स करने के लिए आईआईआरएस के ऑफिशियल पोर्टल https://www.iirs.gov.in/ पर जाकर पंजीकरण कर सकते हैं. हालांकि फिलहाल ऑनलाइन एप्लीकेशन विंडो बंद है.

सबके लिए फ्री हैं ये कोर्स:-
इसरो के ये कोर्स करने के लिए अभ्यर्थियों को कोई फीस चुकाने की आवश्यकता नहीं है. तीनों कोर्स बिल्कुल फ्री हैं तथा कोर्स पूरा करने के पश्चात् विद्यार्थियों को प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा. आईआईआरएस देहरादून (IIRS) की आधिकारिक पोर्टल के अनुसार, आईआईआरएस (IIRS) यूट्यूब चैनल के जरिए सेशन में हिस्सा लेने वाले विद्यार्थियों को 24 घंटे के बाद उपलब्ध ऑफलाइन सत्र में अपनी अटेंडेंस दर्ज करनी होती है. इसरो के अनुसार, इन ऑनलाइन लर्निंग कोर्स में प्रत्येक सिलेबस को अलग-अलग कार्यकाल में बांटा गया है, जो 4 से 12 दिनों तक चलते हैं.

इसरो के फ्री ऑनलाइन कोर्स:-
इसरो ने नीचे बताए गए 3 ऑनलाइन कोर्स आरम्भ किए हैं. आप इनमें से किसी के लिए भी पंजीकृत कर सकते हैं.

मशीन लर्निंग टू डीप लर्निंग: रिमोट सेंसिंग डेटा क्लासिफिकेशन:-
इसरो के दिशानिर्देश कहते है कि यह कोर्स विशेष रूप से विभिन्न एप्लिकेशन में रिमोट सेंसिंग डेटा प्रोसेसिंग में काम करने वाले एक्सपर्ट के लिए डिजाइन किया गया है.

अर्थ ऑब्जर्वेशन फॉर कार्बन साइकिल स्टडी:-
इस कोर्स को रिसर्चर्स, एक्सपर्ट एवं अर्थ ऑब्जर्वेशन, कार्बन मॉडलिंग, कार्बन असेसमेंट से जुड़े छात्रों के लिए डिजाइन किया गया है.

ओवर व्यू ऑफ जीआईएस टेक्नोलॉजी:-
इस टेक्‍नोलॉजी को जी.आई.एस. कहा जाता है. इसमें अभ्यर्थियों को कंप्यूटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की सहायता से भौगोलिक सूचना के साथ एकीकृत कर इनके लिए आंकड़े इकट्ठे करना, प्रबंधन, विश्लेषण, संरक्षण तथा निरूपण के इंतजाम करने के लिए डिजाइन किया गया है.

कोर्स के लिए ऐसे कर सकते हैं पंजीकरण:-
यदि आप अलग सेशन में इसरो फ्री ऑनलाइन क्लास लेना चाहते हैं तो आपको इसरो या आईआईआरएस के आधिकारिक पोर्टल पर जाकर पंजीकरण करना होगा. पंजीकरण के लिए छात्र का पूरा नाम, कक्षा 10वीं की मार्कशीट या सर्टिफिकेट, ईमेल और पासवर्ड, वे जिस कोर्स में दाखिला लेना चाहते हैं जैसी चीजें दर्ज करनी होंगी. साथ ही पर्सनल डीटेल्स, एजुकेशन डीटेल्स तथा आवश्यक डॉक्यूमेंट्स अपलोड करने होंगे. कोर्स पूरा होने के पश्चात् सर्टिफिकेट प्राप्त करने के लिए छात्र को ई-क्लास पोर्टल के जरिए 70% सत्रों में हिस्सा लेना होगा.

मेजर ध्यानचंद को किसने दी थी 'हॉकी के जादूगर' की उपाधि ? पढ़ें पूरा किस्सा

देव आनंद के चक्कर में बैन हो गए थे काले कोट, 30 रुपए ने बना दिया सुपरस्टर

अपने किरदारों से मशहूर हुए जिम्मी शेरगिल, आज है जन्मदिन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -