सुरक्षा बन सकती है जानलेवा, हेलमेट कर सकता है वायरस से संक्रमित

सुरक्षा बन सकती है जानलेवा, हेलमेट कर सकता है वायरस से संक्रमित

है. हम आपको उन चार सावधानियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनकी अनदेखी से आप हेलमेट के जरिए कोविड-19 नाम का दुशमन अपने घर में ला सकते हैं. 

Royal Enfield की ब्रिकी में आई गिरावट, जानें क्या है वजह

एक व्यक्ति एक हेलमेट

इस बात को बताने का यह मतलब है, कि जैसे एक व्यक्ति के लिए एक फेस मास्क है, वैसे ही एक व्यक्ति को एक ही हेलमेट ही पहनना है. ताकि हर हाल में कोरोना संक्रमण से बचा जा सके. बता दे कि इस प्रक्रिया को अपनाने से आपका हेलमेट किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से बच सकता है. दरअसल जरूरत पड़ने पर लोग किसी दूसरे व्यक्ति (दोस्त, साथी कर्मचारी या परिवार का सदस्य) से कार के मुकाबले दो-पहिया वाहन के इस्तेमाल की मांग ज्यादा करते हैं. छोटा सा उदाहरण, अगर ऑफिस में टाइम के दौरान आपके किसी जान पहचान के व्यक्ति को कोई काम याद आ जाए, तो वह किसी कार वाले दोस्त से मदद मांगने के बजाए आपसे कुछ समय के लिए बाइक या स्कूटर की मांग कर सकता है.

बजाज ऑटो की ब्रिकी में आया उछाल, जानें पूरी डिटेल्स

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि स्कूल या कॉलेज में पढ़ने वाले बच्चें अक्सर इस प्रकार की गलती करते है. समय पर घर पहुंचने के चक्कर में अक्सर वे यह गलतीयां करते है. लेकिन बाइक या स्कूटर के साथ आपको अपना हेलमेट भी देना पड़ता है. ऐसे में अब जब कोरोना तेजी से देश में बढ़ रहा है, तो किसी दूसरे व्यक्ति को अपना हेलमेट देना खतरे से खाली नहीं है, क्योंकि आपको नहीं पता कि सामने वाला व्यक्ति कोरोना से संक्रमित है या नहीं? या वह जिससे मिलने जा रहा है वो व्यक्ति संक्रमित है या नहीं? इसके अलावा आपको यह भी नहीं पता कि सामने वाला व्यक्ति आपके हेलमेट को जिन जगहों पर रखेगा वो जगह सही है या नहीं. इसलिए कोरोना काल में अपना हेलमेट किसी भी दूसरे व्यक्ति को न दें.

कैशलेस उपचार कर देगा दुर्घटना पीड़ितों की हर मुश्किल आसान, जानें पूरी डिटेल्स

Hero Xtreme 160R से Bajaj Pulsar कितनी है दमदार, जानें तुलना

इस सेगमेंट पर टिकी है ऑटो इंडस्ट्री की ब्रिकी