INS अरिहंत ऑपरेशन के लिए है तैयार

भारत की पहली न्यूक्लियर हथियारों से लैस सबमरीन ‘आईएनएस अरिहंत’ अब ऑपरेशन के लिए तैयार हो गई है. बता दें कि भारत लंबे समय के बाद परमाणु हथियार संपन्‍न तिकड़ी का काम पूरा करने जा रहा है. इसके पहले भारत परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम अग्नि बैलिस्टिक मिसाइल और लड़ाकू विमानों को सैन्‍य बेड़े में शामिल कर चुका है लेकिन नौसेना के क्षेत्र में यह कार्य बाकी था, जो अब पूरा हो रहा है.

सूत्रों से पता चला है कि देश की पहली स्‍वदेश निर्मित परमाणु पनडुब्‍बी आर्इएनएस अरिहंत को अगस्‍त में गोपनीय रूप से कमीशन दे दिया गया है. दिसंबर 2014 से इसके गहन परीक्षण चल रहे थे. अरिहंत के अंतिम परीक्षण के दौरान रूस की डाइविंग सपोर्ट जहाज ने मदद की. जहाँ तक अरिहंत की वि शेषताओं का सवाल है तो यह न्यूनतम 750 किमी से लेकर 3500 किमी तक निशाना लगा सकती है.

इसके अलावा परमाणु संपन्‍न इस पनडुब्‍बी की खासियत यह है कि दुश्‍मन को महीनों तक पता चले बिना इससे परमाणु हमले की जवाबी कार्रवाई की जा सकती है. इसका इस्तेमाल जहाजों या सबमरीन्स के डूबने के हालत में उन्हें बाहर निकालने के लिए किया जाता है. 6 हजार टन वजनी अरिहंत हालांकि अभी तक पूरी तरह से तैनाती के लिए तैयार नहीं हैं. रक्षा मंत्रालय और नेवी की ओर से भी इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है.

नौसेना करेगी बड़ा युद्धाभ्यास

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -