इन्फोसिस वेतन विवाद से नाराज नारायण मूर्ति
इन्फोसिस वेतन विवाद से नाराज नारायण मूर्ति
Share:

नई दिल्ली : इंफोसिस कंपनी में जारी मतभेद रविवार को फिर से उजागर हो गए जब इंफोसिस के सह संस्थापक नारायण मूर्ति ने चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर (सीओओ) यू बी प्रवीण राव का वेतन वृद्धि से नाराजगी जाहिर की . मूर्ति का मत था कि इससे बोर्ड पर से कर्मचारियों का भरोसा उठ जाएगा. यह गलत है.

नारायण मूर्ति ने कहा कि ऐसे फैसलों के कारण कर्मचारियों का प्रबन्धन और बोर्ड से भरोसा उठ जाएगा. जिस समय कंपनी के अधिकांश कर्मचारियों को 6-8 फीसदी ही वृद्धि दी गई, एक वरिष्ठ स्तर के व्यक्ति को 60-70 फीसदी (वेरिएबल पे सहित) की वृद्धि देना मेरे हिसाब से ठीक नहीं है.हालांकि नारायण मूर्ति ने यह स्पष्ट किया है कि प्रवीण के लिए उनके मन में बहुत स्नेह है. उन्होंने कहा कि मैंने वर्ष 1985 में प्रवीण की नियुक्ति की थी और तब से उसे आगे बढ़ाया. मूर्ति ने कहा कि जब मैं वर्ष 2013 में वापस आया तो प्रवीण साइडलाइन था. यहां तक कि वह कार्यकारी परिषद् में भी नहीं है . मैंने उसे प्रेरित करआगे बढ़ाया . जब विशाल सिक्का को सीईओ बनाया तो प्रवीण को सीओओ बनाया.

उल्लेखनीय है कि खुद मूर्ति ने खुलासा किया कि कंपनी की स्थापना के बाद वह अपनी पिछली नौकरी की तुलना में सिर्फ 10 फीसदी ही वेतन ले रहे थे, जबकि उन्होंने अपने सहयोगी और जूनियर साथियों को पिछली नौकरी से 20 फीसदी ज्यादा वेतन दिया था.

यह भी देखें

मार्च में 5 महीने के उच्चतर स्तर पर पहुंचा पीएमआई

RBI गवर्नर के वेतन में सरकार ने किया तीन गुना इजाफा

 

रिलेटेड टॉपिक्स