भारत सरकार ने इलेक्ट्रिक वाहनों के उपयोग में तेजी लाने की कही बात

भारत सरकार ने इलेक्ट्रिक वाहनों के उपयोग में तेजी लाने की कही बात

केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि सरकार का उद्देश्य दुनिया के साथ मोटर वाहन उद्योग के सहज एकीकरण की सुविधा देकर भारत में मुख्य वैश्विक दक्षताओं का निर्माण करना है। उन्होंने कहा कि सरकार देश में इलेक्ट्रिक वाहनों की संख्या बढ़ाने के लिए माहौल बनाने की कोशिश कर रही है। एक वर्चुअल कॉन्फ्रेंस 'ऑटो सर्विस 2020 के 9 वें संस्करण' को संबोधित करते हुए। न्यूम्युलर मिनिस्टर में इकोनॉमिक मोबिलिटी कॉन्फ्रेंस 2020-सीजिंग ऑपर्च्युनिटीज ने प्रदूषण को कम करने के व्यापक राष्ट्रीय एजेंडा को हासिल करने के लिए ऑटो इंडस्ट्री को संयुक्त रूप से काम करने के लिए कहा।

सरकार ने इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए जीएसटी को घटाकर 5% कर दिया है, जिससे वाहन की लागत से 2-3 स्वाहेलरों की बैटरी की लागत को कम करने की अनुमति मिलती है क्योंकि यह लागत का लगभग 30% है। सरकार बिजली की गतिशीलता का चयन करने के लिए लोगों को प्रेरित करने के लिए देश के लगभग 69 हजार पेट्रोल पंपों पर कम से कम एक इलेक्ट्रिक वाहन चार्ज कियोस्क स्थापित करने की योजना बना रही है। गडकरी ने भारत को अगले पांच वर्षों में वैश्विक ऑटोमोबाइल विनिर्माण हब बनाने का सपना व्यक्त किया। साथ ही यह प्रधानमंत्री के आत्मानबीर भारत पूर्ति के दृष्टिकोण में योगदान देता है।

भविष्य में ऑटोमोबाइल क्षेत्र में लगभग 25 मिलियन कुशल नौकरियों की आवश्यकता है। सरकार ने इस क्षेत्र के लिए प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव (पीएलआई) के तहत मंत्री ने उद्योग से कहा कि वे फ्लेक्स इंजनों के विनिर्माण के लिए जाएं जिसमें ईंधन के रूप में पेट्रोल या एथोनल / सीएनजी का उपयोग करने की बहुमुखी प्रतिभा हो। वह चाहता है कि उद्योग सीएनजी, हाइड्रोजन, बिजली जैसे वैकल्पिक और कम प्रदूषणकारी ईंधन के लिए जाए। उन्होंने खुलासा किया कि सरकार दिल्ली और मुंबई एक्सप्रेसवे को ई-हाईवे बनाने के लिए काम कर रही है। उन्होंने बाजार की जरूरतों को पूरा करने के लिए डबल डेकर बसों जैसे विभिन्न नवाचारों और उपयोग का आह्वान किया।

बंगाल में मालवाहक का संतुलन बिगड़ा, गंगा नदी में डूबे 4 पत्थर से भरे ट्रक

सुपरहिट फिल्‍मों का निर्देशन कर मशहूर हुए हैं राजकुमार हिरानी

PSC की प्रतियोगिता में कई बार पूछे जा चुके है ये प्रश्न