डिफेंस एक्सपो में भारत का दम देखेगी दुनिया

नई दिल्ली: ऐसा पहली बात होगा जब भारत अपनी रक्षा उत्पादन क्षमता को दुनिया के सामने प्रदर्शित करेगा. मौका होगा रक्षा प्रदर्शनी (डिफेंस एक्सपो) का जो चेन्नई में 11 से 14 अप्रैल तक आयोजित की जा रही है. इसमें भारत के अलावा दुनियाभर के करीब 50 देश हिस्सा लेंगे. रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि भारत इस डिफेंस एक्सपो में देश में विकसित हेलीकॉप्टरों, विमानों, मिसाइलों और रॉकेटों का प्रदर्शन करने के अलावा पनडुब्बी, फ्रिगेट्स, कॉर्वेट आदि को पहली बार भारत दुनिया के समक्ष पेश करेगा. मालूम हो कि भारत रक्षा उपकरणों के बड़े आयातकों में से एक है और सरकार विदेशी खरीद पर निर्भरता कम करने के लिए घरेलू रक्षा उद्योग को बढ़ावा देने की कोशिश कर रही है.

डिफेंस एक्सपो में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले युद्धायुधो में - हल्का लड़ाकू विमान तेजस, अत्याधुनिक हल्का हेलीकॉप्टर ध्रुव, डोर्नियर विमान,155 मिमी एडवांस टोड आर्टिलरी गन,अर्जुन टैंक, टी-90 टैंक, टी-72 टैंक, ब्रह्मोस मिसाइल, आकाश मिसाइल, पिनाका रॉकेट्स, स्कॉर्पीन पनडुब्बी बनाने की क्षमता, मझगांव डॉक्स, गोवा शिपयार्ड, हिंदुस्तान शिपयार्ड और अन्य निजी शिपयार्डो की क्षमताएं का प्रदर्शन शामिल है. 


गौरतलब है कि भारत में विकसित की गई तकनीकों के बल पर अब युद्ध सामग्री का बड़े पैमाने पर निर्माण देश में ही हो रहा है जिससे रक्षा बजट काफी कम हो गया है. उन्नत और हाई टेक टेक्नोलॉजी के जरिये अब भारत में ही विदेशी रक्षा उत्पादों के समान उत्पादों का निर्माण संभव हुआ है.  

जम्मू-कश्मीर में फिर आतंकी हमले

सेना ने पाकिस्तानी सेना के चार ठिकानो को उड़ाया

सेना प्रमुख के बयान पर मचा बवाल

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -