निपाह से निपटने भारत ने ऑस्ट्रेलिया से मांगी मदद

May 25 2018 01:03 PM

केरल में निपाह वायरस से मरने वालों की संख्या में लगातार वृद्धि से पूरे राज्य में दहशत का माहौल है.बढ़ते मामलों से चिंतित इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने ऑस्ट्रेलिया की क्वीन्सलैंड सरकार को चिट्ठी लिख एंटीबॉडी की मांग की है ताकि भारत में इस पर रोक लगाई जा सके.

 

उल्लेखनीय है कि आईसीएमआर भारत में बॉयोमेडिकल रिसर्च के फॉर्मुलेशन, को-ऑर्डिनेशन व प्रमोशन के लिए शीर्ष संस्था है. यहां के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने बताया कि हमने उनसे कहा है कि वो हमें एंटीबॉडी मोनोक्लोनल उपलब्ध करा दें , ताकि हम यह परीक्षण कर सकें कि ये निपाह वायरस को न्यूट्रलाइज़ कर पा रहा है या नहीं .बता दें कि शरीर के बाहर कृत्रिम परिस्थितियों में इसका प्रयोग सफल रहा है.ऑस्ट्रेलिया इसे देने के लिए तैयार है , क्योंकि वह इस दवा के मानवों पर प्रयोग के आंकड़े एकत्रित करेगा. अभी यह पता नहीं है कि यह निपाह वायरस में कितना कारगर होगा , क्योंकि इसकी मृत्यु दर बहुतअधिक है.

गौरतलब है कि केरल में अब तक 12 मौतें निपाह वायरस के कारण हो चुकी हैं. इनमें से 9 मौतें कोझीकोड और 3 मौतें मलप्पुरम जिले में हुई हैं.जबकि स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार अभी तक कोझीकोड से 18 और मलप्पुरम से 22 लोगों को निपाह वायरस होने के शक में कोझीकोड मेडिकल कॉलेज में दाखिल कराया गया है.अभी निपाह वायरस के उपचार की कोई दवा नहीं है. यह वायरस मानव और पशुओं दोनों से फैलता है. इस वायरस से राज्य में भी का माहौल है.

यह भी देखें

निपाह वायरस: लोगों ने किया नर्स का विरोध, डर पहुंचा शमशान तक

जानिए क्या है निपाह वायरस? कैसे फैलता है ये और क्या है इसके लक्षण