Share:
प्रेग्नेंसी के दौरान हो गया खांसी-जुकाम? तो अपनाएं ये उपाय, मिलेगी राहत
प्रेग्नेंसी के दौरान हो गया खांसी-जुकाम? तो अपनाएं ये उपाय, मिलेगी राहत

जैसे ही सर्दियों का मौसम शुरू होता है, सर्दी और फ्लू की आम घटना चिंता का विषय बन जाती है, खासकर गर्भवती महिलाओं के लिए। सर्दी और फ्लू के लक्षणों का अनुभव होने पर कई व्यक्ति दवा का सहारा लेते हैं, लेकिन गर्भवती महिलाओं के लिए, विकासशील बच्चे को संभावित नुकसान का डर अक्सर उन्हें ओवर-द-काउंटर दवाएं लेने से रोकता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का सुझाव है कि गर्भावस्था के दौरान सर्दी और फ्लू का प्रभाव कभी-कभी अजन्मे बच्चे पर भी पड़ सकता है, अगर गर्भावस्था के शुरुआती महीनों में महिला को तेज बुखार का अनुभव होता है तो जन्मजात विसंगतियों का खतरा बढ़ जाता है।

ऐसी स्थिति में दवा के विकल्प तलाशना जरूरी हो जाता है। यहां कुछ सरल घरेलू उपचार और सावधानियां दी गई हैं जिन पर गर्भवती महिलाएं अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से परामर्श करने के बाद विचार कर सकती हैं:
जलयोजन महत्वपूर्ण है: पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन महत्वपूर्ण है। यदि सादा पानी अच्छा नहीं लगता है, तो आहार में जूस शामिल करने से भी जलयोजन में योगदान मिल सकता है। अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहने से गले की परेशानी कम होती है और निर्जलीकरण से बचाव होता है।
भाप लेना: भाप लेने से कंजेशन से राहत मिल सकती है और छाती से बलगम साफ करने में मदद मिल सकती है। गर्म पानी के कटोरे या वेपोराइज़र का उपयोग करके, जलने से बचने के लिए सुरक्षित दूरी बनाए रखते हुए भाप लें।
आराम को प्राथमिकता दें: सर्दी या फ्लू के लक्षणों से निपटने के लिए पर्याप्त आराम आवश्यक है। आराम शरीर को ठीक होने में मदद करता है और गर्भावस्था के दौरान माँ और विकासशील बच्चे दोनों की भलाई के लिए यह विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।
नमक के पानी से गरारे करना: गर्म पानी में नमक मिलाकर गरारे करने से गले की खराश को शांत करने और जलन को कम करने में मदद मिल सकती है। इस उपाय को दिन में कई बार करने से राहत मिल सकती है।
शहद और नींबू: गर्म पानी में शहद और नींबू मिलाकर पीने से न केवल गले की खराश से राहत मिलती है बल्कि फायदेमंद पोषक तत्वों की खुराक भी मिलती है। सर्दी और फ्लू के लक्षणों को कम करने के लिए गर्भावस्था के दौरान इस प्राकृतिक उपचार का नियमित रूप से सेवन किया जा सकता है।

गर्भावस्था के दौरान सर्दी और फ्लू के खतरे को कम करना:
लक्षणों को प्रबंधित करने के अलावा, गर्भवती महिलाएं सर्दी या फ्लू के जोखिम को कम करने के लिए सक्रिय उपाय कर सकती हैं:
हाथ की स्वच्छता: वायरस के प्रसार को रोकने के लिए नियमित रूप से साबुन और पानी से हाथ धोना एक बुनियादी अभ्यास है। गर्भवती महिलाओं को हाथ की स्वच्छता को लेकर विशेष रूप से सतर्क रहना चाहिए।
सामाजिक दूरी बनाना: सर्दी या फ्लू के लक्षण वाले व्यक्तियों के साथ निकट संपर्क से बचना जोखिम के जोखिम को काफी कम कर सकता है। सामाजिक दूरी बनाए रखना महत्वपूर्ण है, खासकर भीड़-भाड़ वाली जगहों पर।
संतुलित आहार: स्वस्थ और संतुलित आहार का सेवन प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करता है। फलों, सब्जियों और अन्य पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करने से समग्र स्वास्थ्य और प्रतिरक्षा में मदद मिलती है।
पर्याप्त आराम: पर्याप्त आराम को प्राथमिकता देना न केवल लक्षणों के प्रबंधन के लिए फायदेमंद है, बल्कि गर्भावस्था के दौरान एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली बनाए रखने के लिए भी महत्वपूर्ण है।
नियमित व्यायाम: स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं द्वारा अनुशंसित मध्यम व्यायाम में संलग्न होने से समग्र स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है और एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली में योगदान हो सकता है।
पानी के सेवन में वृद्धि: अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहने से शरीर की प्राकृतिक रक्षा तंत्र को समर्थन मिलता है। गर्भवती महिलाओं को रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए पानी का सेवन बढ़ाने का लक्ष्य रखना चाहिए।

निष्कर्ष में, जबकि गर्भवती महिलाओं के लिए किसी भी घरेलू उपचार को आजमाने से पहले अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं से परामर्श करना आवश्यक है, ये सरल और प्राकृतिक दृष्टिकोण सर्दी और फ्लू के लक्षणों से राहत दे सकते हैं। निम्नलिखित एहतियाती उपायों से गर्भावस्था के दौरान बीमारियों के होने के जोखिम को कम करने में भी मदद मिल सकती है। हमेशा मां और अजन्मे बच्चे दोनों के स्वास्थ्य और कल्याण को प्राथमिकता दें।

सर्दियों में घर पर जरूर बनाएं पंजीरी के लड्डू, आसान है रेसिपी

'भगवाकरण करने के लिए हमारा फंड रोक दिया..', केंद्र सरकार पर सीएम ममता बनर्जी का गंभीर आरोप

सर्दियों में जरुरी है सनस्क्रीन लगाना, वरना हो सकती है ये दिक्कतें

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -