ज्ञानवापी के बाद अब जामा मस्जिद की बारी ? पीएम मोदी को पत्र लिखकर हिन्दू महासभा ने की यह मांग

नई दिल्ली: वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद में शिवलिंग पाए जाने के हिंदू पक्ष के दावे के बाद देशभर में हड़कंप मचा हुआ है. इसी बीच दिल्ली की जामा मस्जिद को लेकर हिंदू महासभा ने पीएम नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा है. इसमें दावा किया गया है कि जामा मस्जिद की सीढ़ियों के नीचे हिंदू देवी-देवताओं की प्रतिमाएं मौजूद हैं. हिंदू महासभा के प्रमुख स्वामी चक्रपाणि ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर जामा मस्जिद का सर्वेक्षण करने का आग्रह किया है. उन्होंने कहा कि सीढ़ियों के नीचे हिंदू देवताओं की प्रतिमाएं हैं. इसलिए आवश्यक है कि खुदाई करके इन मूर्तियों को निकाला जाए.

हिंदू महासभा ने ये मांग ऐसे समय में की है, जब वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद में शिवलिंग मिलने का दावा किया जा रहा है. हालांकि, अभी हिंदू पक्ष तथा मुस्लिम पक्ष के अलग अलग दावे हैं. ज्ञानवापी के मामले में जहां हिंदू पक्ष का दावा है कि आकृति साफ-साफ बता रही है ये शिवलिंग ही है. वहीं मुस्लिम पक्ष कह रहा है, उपरी हिस्से की बनावट बता रही ये फव्वारा है. हिंदू पक्ष की दलील है कि ये एक ही पत्थर से बनी संरचना है, शिवलिंग ऐसे ही बनते हैं. मुस्लिम पक्ष की दलील है कि ये अभी कैसे पता चला कि ये एक ही पत्थर से बना है. 

वहीं महिला वादियों का कहना है कि चूंकि ज्ञानवापी में बाबा मिल चुके हैं, इसलिए पूजा की इजाजत मिलनी चाहिए. याचिकाकर्ता मंजू व्यास ने कहा कि पूरी उम्मीद है कि हम वहां मंदिर बनाकर रहेंगे. वहीं रेखा पाठक ने कहा कि ज्ञानवापी सभी की आस्था का केंद्र बिंदु है, जिस पर हुए कब्जे को छुड़ाने की जंग अंतिम सांस तक जारी रहेगी. सीता साहू भी मामले में एक और याचिकाकर्ता हैं. उन्होंने कहा कि हम लोग गौरी को खोजने के लिए गए थे, लेकिन मिल गए शिव बाबा, तो जहां शिव रहेंगे, वहीं शक्ति भी रहेंगी, दोनों का मिलना आवश्यक है, शिव के साथ शक्ति जुड़ी है, शक्ति के साथ शिव जुड़े हैं, वो हमारे विश्वेश्वर जी हैं, द्वादश लिंग में वो शामिल हैं, हम लोगों के दावे में दम है. दीवारों पर चित्रकारी मंदिर के प्रमाण देते हैं कि, वो मंदिर है.

रामनाथ कोविंद 'राष्ट्रीय महिला विधायकों' की बैठक का उद्घाटन करेंगे

गंगा किनारे फिर लगा लाशों का अंबार, लेकिन अब तो 'कोरोना' भी नहीं, फिर ये क्या ?

'सड़कों के बीच अवैध मजारें रहेंगी, तो सभ्य समाज कैसे रहेगा..', केजरीवाल सरकार को दिल्ली हाई कोर्ट ने लताड़ा

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -