सीरिया में हवाई हमले से हो रहा विवाद

वाॅशिंगटन। अमेरिका और रूस के बीच सीरिया में हवाई हमले किए जाने को लेकर विवाद की स्थिति है। दरअसल यह मसला अमेरिकी राष्ट्रपति पद के लिए हो रही चुनावी बहस में साफतौर पर उठा। इस मामले में ट्रंप और हिलेरी क्लिंटन के बीच जोरदार बहस हुई। ट्रंप ने कहा कि इस बात में उन्हें कोई शक नहीं है कि सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद को लेकर उन्हें संदेह है मगर ओबामा को भी कम खतरनाक नहीं माना जा सकता है।

इस मामले में अमेरिकी विदेश मंत्री जाॅन केरी का कहना रहा कि अलेप्पो पर नियंत्रण करने से सीरिया की परेशानी समाप्त नहंीं होगी। उनका कहना था कि अलेप्पो पर रूस द्वारा हमला किया जाना एक बड़ी भूल है। जाॅन केरी द्वारा यह भी कहा गया कि अलेप्पो पर एक तरफा नियंत्रण स्थापित किया जा सकता है।

कट्टरपंथी शक्तियां भी सिर उठा सकती हैं। अलेप्पो पर हवाई हमले किए जा रहे हैं इन हमलों का परिणाम घातक  हो सकता है। हालांकि सीरिया और इससे सटे देशें के प्रशासनिक अमले का कहना है कि रूस और अमेरिका के अपने अपने दावे हैं। रूस द्वारा अमेरिका पर आरोप लगाया जा रहा है कि वह विद्रोही की मदद कर रहा है जबकि रूस कह रहा है कि वह आतंकी संगठनों के विरूद्ध मुहिम चला रहा है। हालांकि इस तरह की परेशानियां वैसी की वैसी ही बनी हुई हैं। हालांकि कई देश यही मानते हैं कि शांति वार्ता से ही सीरिया की मुश्किल हल हो सकती है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -