हनुमान जी ने लिखी थी पहली रामायण, लेकिन फेंक दी समुद्र में

हनुमान जी ने लिखी थी पहली रामायण, लेकिन फेंक दी समुद्र में
Share:

रामायण तो आप सभी ने पढ़ी या सुनी होगी। आप सभी जानते ही होंगे रामायण को वाल्मीकि और तुलसीदास ने लिखा था लेकिन क्या आप जानते हैं कि इन सबसे पहले रामायण को हनुमान जी ने लिखा था। जी हाँ और उस रामायण को लोग हनुमद रामायण के नाम से जानते हैं।  आप सभी को शायद ही पता होगा कि हनुमान जी ने रामायण को लिखने के बाद समुद्र में फेंक दी थी। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि आखिर हनुमान जी ने ऐसा किया क्यों था।

ज्योतिष शास्त्रों के मुताबिक रामायण को हनुमान जी ने अपने नाखूनों से लिखा था। कहा जाता है इस रामायण को हनुमान जी ने वाल्मीकि रामायण से भी पहले लिखा था। इसी के साथ हम आपको यह भी बता दें कि लंका पर विजय प्राप्त करने के बाद भगवान राम अयोध्या पर राज करने लगे थे और हनुमान जी हिमालय पर भगवान शिव के तप के दौरान अपने नाखूनो से रामायण लिखते थे।

उस समय महार्षि ने भी जो रामायण लिखी थी उसे भगवान शिव को समर्पित करने के उद्देश्य से कैलाश पहुंचे। जहाँ पहले से ही हनुमान जी के द्वारा लिखी हनुमद देखकर निराश हो गये। ऐसे में वाल्मीकि को निराश देखकर हनुमान जी ने पर्वत शिला को एक कंधे पर और दूसरे कंधे पर महर्षि वाल्मीकिजी को बैठाकर समुद्र मे लेकर गये और उस शिला को समुद्र में डुबा दिया। उसी के बाद से हनुमान जी द्वारा लिखी रामकथा कही भी उपलब्ध नही हैं।

'बापू हम शर्मिंदा हैं, तेरे कातिल जिन्दा हैं..', छत्तीसगढ़ धर्म संसद पर शुरू हुआ नया विवाद

धर्मसंसद के विवादित भाषण को लेकर 76 वकीलों का CJI को पत्र, नरसंहार के आह्वान को बताया खतरा

इस कथा को पढ़े-सुने बिना नहीं पूरा होता सोमवार का व्रत

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -