उत्तर प्रदेश के 68 गांवों में घुसा बाढ़ का पानी, कई लोगों पर पड़ा असर

Jul 31 2020 07:28 PM
उत्तर प्रदेश के 68 गांवों में घुसा बाढ़ का पानी, कई लोगों पर पड़ा असर

गोरखपुर: अभी बारिश का मौसम चल रहा है. और इस दौरान देश के कई राज्यों में सर्वाधिक बारिश ने तबाही मचा रखी है. वही इस बीच उत्तर प्रदेश के गोरखपुर शहर से होकर गुजरने वाली नदियों का जलस्तर निरंतर नीचे-ऊपर हो रहा है, फिर भी 68 गांवों की समस्याएं कम नहीं हो रही हैं. इन गांवों में बाढ़ का पानी घुसा है. इसमें से 19 गांव पानी से पूरी प्रकार से घिरे हुए हैं. 

आपको बता दे की इन गांवों के 36 हजार 595 लोग प्रभावित हैं. 4 लाख 77,334 क्षेत्रफल की फसलों को भारी हानि पहुंची है. गोरखपुर सदर, कैंपियरगंज, सहजनवां, खजनी और गोला तहसील इलाको में नुकसान अधिक हुआ है. वही जंगल कौड़िया विकास खंड के कई गांव रोहिन नदी के पानी से घिरे हैं. सेमरा गांव के लोग भी बहुत परेशान हैं. एक दर्जन से अधिक घर पानी से घिरे हैं. प्रशासन की और से कोई सहायता नहीं दी गई है. ग्रामीणों का कहना है कि कोई हाल लेने वाला नहीं है. यही परिस्थिति मोहम्मदपुर माफी, गझगांवा, भंडारो और गौराखास की है. 

उधर राप्ती नदी खतरे के निशान से ऊपर ही बह रही है. इससे कटान का संकट बना हुआ है. बांधों पर दबाव है. रैट होल ने भी चुनौती बढ़ाई है. राप्ती नदी कोठा सेमरा तटबंध पर कई क्षेत्रो पर कटान कर रही है. बेलकुर गांव के समीप कई स्थान रैट होल से पानी का रिसाव हो रहा है. सेंट्रल वाटर कमीशन से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार, गंडक नदी से 2,18200 क्यूसेक पानी छोड़ा गया है. दूसरी और डिस्ट्रिक्ट डिसास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी गोरखपुर की तरफ से कहा गया है कि स्थिति कंट्रोल में है. 86 बाढ़ चौकियों पर सारी व्यवस्था की गई है. शहर में छोटी-बड़ी 259 नावें उपलब्ध हैं. साथ ही इस खतरे को लेकर वहा के रहवासियों को सतर्क कर दिया है.

चीन ने फिर की हिमाकत, पैंगॉन्ग में तैनात की बोट और फ़ौज

कांग्रेस ने फिर अलापा राफेल राग, कहा- जिस दिन जांच हुई सच सामने आ जाएगा

भाजपा MLA ढुलू महतो को मिली जमानत, लगा है ये गंभीर आरोप