NEET और JEE को लेकर गोवा NSUI ने सेंट्रल गवर्नमेंट से किया ये अनुरोध

पणजी:  राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (NEET) और संयुक्त प्रवेश परीक्षा (JEE) एक्साम्स को लेकर पूरे देश में विरोध तेजी से बढ़ता ही जा रहा है. अब गोवा के राष्ट्रीय छात्र संघ (NSUI) इकाई ने गवर्नमेंट से भारत में बढ़ते कोरोना केसों में राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (NEET) और संयुक्त प्रवेश परीक्षा (JEE) को स्थगित करने का अनुरोध किया है. इससे पहले मंगलवार के दिन नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने बोला कि जेईई (मेन) और एनईईटी (यूजी) एक्साम्स पहले घोषित डेट्स पर आयोजित की जाएंगी.

सूचना के लिए बता दें कि यह एलान किया गया था कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा NEET और JEE को स्थगित करने की याचिका को खारिज करने के बाद JEE (मेन) एक सितंबर से छह सितंबर तक और NEET (UG) तेरह सितंबर को आयोजित किया जाएगा. एनएसयूआई गोवा ने बोला कि वास्तव में केसों की संख्या बढ़ रही है. ऐसे वक्त में जब कोरोना के केस रोज बढ़ रहे हैं, कक्षाएं ऑनलाइन हो रही हैं और हमारे भारत में एक महामारी के दौरान चिकित्सा आपातकाल है, गवर्नमेंट एग्जाम सेंटर पर जाकर छात्रों से परीक्षाओं का जवाब देने की आशा नहीं कर सकती है .

उन्होंने आगे बोला कि  यह बताया कि एग्जाम का आयोजन वक्त की बर्बादी होगी क्योंकि कई विधार्थी पहले से ही कोरोना महामारी से पीड़ित हैं. सैकड़ों विद्यार्थी पहले से ही कोरोना संक्रमण से पीड़ित हैं और अपनी एक्साम का उत्तर नहीं दे सकते हैं.  उन्होंने बोला ऐसे  समय में  फिर से हमने गवर्नमेंट से सभी परीक्षाओं को रद्द करने का आग्रह किया है, NEET और JEE के अभ्यर्थी आम तौर पर अठारह वर्ष से कम उम्र के हैं और भारत का भविष्य हैं. उन्होंने बोला कि परीक्षाओं का उत्तर देने के लिए बोलना पूरे देश को स्वास्थ्य जोखिम में डाल देगा और उनके फ्यूचर को दांव पर लगा देगा.

कोरोना से हो रही मौतों पर इलाहबाद हाईकोर्ट ने जताई चिंता, कही ये बात

जातिगत गणित का सियासी फायदा जुटाने में लगी मायावती

हिमाचल के इस शहर में सामने आये 27 कोरोना संक्रमित मामले

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -