18 मई को है गंगा सप्तमी, जरूर पढ़े यह कथा

May 03 2021 07:04 PM
18 मई को है गंगा सप्तमी, जरूर पढ़े यह कथा

पौराणिक शास्त्रों के मुताबिक़ वैशाख शुक्ल सप्तमी तिथि को मां गंगा स्वर्ग लोक से शिवशंकर की जटाओं में पहुंची थी। इसी के चलते इस दिन को गंगा सप्तमी के रूप में मनाया जाता है। आप सभी को बता दें कि इस साल गंगा सप्तमी का पर्व मंगलवार, 18 मई 2021 को मनाया जा रहा है। ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं माँ गंगा की कथा।


कथा- भागीरथ एक प्रतापी राजा थे। उन्होंने अपने पूर्वजों को जीवन-मरण के दोष से मुक्त करने के लिए गंगा को पृथ्वी पर लाने की ठानी। उन्होंने कठोर तपस्या आरम्भ की। गंगा उनकी तपस्या से प्रसन्न हुईं तथा स्वर्ग से पृथ्वी पर आने के लिए तैयार हो गईं। पर उन्होंने भागीरथ से कहा कि यदि वे सीधे स्वर्ग से पृथ्वी पर गिरेंगीं तो पृथ्वी उनका वेग सहन नहीं कर पाएगी और रसातल में चली जाएगी। यह सुनकर भागीरथ सोच में पड़ गए। गंगा को यह अभिमान था कि कोई उसका वेग सहन नहीं कर सकता। तब उन्होंने भगवान भोलेनाथ की उपासना शुरू कर दी। संसार के दुखों को हरने वाले शिव शम्भू प्रसन्न हुए और भागीरथ से वर मांगने को कहा। भागीरथ ने अपना सब मनोरथ उनसे कह दिया।

गंगा जैसे ही स्वर्ग से पृथ्वी पर उतरने लगीं गंगा का गर्व दूर करने के लिए शिव ने उन्हें जटाओं में कैद कर लिया। वह छटपटाने लगी और शिव से माफी मांगी। तब शिव ने उसे जटा से एक छोटे से पोखर में छोड़ दिया, जहां से गंगा सात धाराओं में प्रवाहित हुईं। इस प्रकार भगीरथ पृथ्वी पर गंगा का वरण करके भाग्यशाली हुए। उन्होंने जनमानस को अपने पुण्य से उपकृत कर दिया। युगों-युगों तक बहने वाली गंगा की धारा महाराज भगीरथ की कष्टमयी साधना की गाथा कहती है। गंगा प्राणीमात्र को जीवनदान ही नहीं देती, मुक्ति भी देती है।

यूपी में दो दिन के लिए बढाया गया लॉकडाउन, अब गुरुवार सुबह तक रहेंगी पाबंदियां

तमिलनाडु चुनाव: स्टालिन का सीएम बनना तय, पीएम मोदी ने दी जीत की बधाई

अदालती बहस की रिपोर्टिंग न करे मीडिया, EC से बोला सुप्रीम कोर्ट- ये संभव नहीं