गणेश चतुर्थी का असली आनंद लेना हो तो महाराष्ट्र की इन जगहों पर जरूर जाये

Sep 11 2018 03:00 PM
गणेश चतुर्थी का असली आनंद लेना हो तो महाराष्ट्र की इन जगहों पर जरूर जाये

मुंबई। देश में जल्द ही गणेश चतुर्थी का पर्व शुरू होने वाले है और इसे लेकर जोर सोर से तैयारियां भी शुरू हो गई है। इस साल यह त्यौहार 13 सितम्बर से शुरू रहा है। इन दिनों देश में जगह-जगह भगवान गणेश के मंदिरों की साज सज्जा चल रही है और जगहों-जगहों पर गणेश जी की झांकियां भी सजाई जा रही हैं। इसके साथ ही कई लोग गणेश चतुर्थी पर मिलने वाली छुट्टियों का फायदा उठा कर इस दौरान घूमने-फिरने का मन भी बना रहे है। 


तो अगर आप भी गणेश चतुर्थी के इस अवसर पर कही घूमने या गणेश जी से जुड़े भव्य आयोजनो में शामिल होने की योजना बना रहे है तो महाराष्ट्र की इन जगहों पर जरूर जाये। 

गणेश चतुर्थी 2018: कदमा में बनेगा 100 साल के इतिहास का सबसे भव्य पंडाल

मुंबई 

गणेश चतुर्थी पर गणेश जी से जुड़े सबसे बड़े कार्यक्रम शायद मुंबई में ही होते है और हो भी क्यों ना आखिर यह मुंबई में मनाए जाने वाले सबसे बड़े पर्वो में से एक जो है। चतुर्थी के दौरान मुंबई के अधिकतर इलाकों में गणेश पंडाल लगाए जाते हैं और पूरे मुंबई शहर में त्योहार जैसा माहौल होता है। 

पुणे 

मुंबई की तरह ही पुणे भी गणेश चतुर्थी के पर्व को बड़े हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है। इस शहर की ख़ास बात यह है कि यहाँ यह पर्व पेशवाओं के समय से मनाया जा रहा है। यहाँ की कुछ मूर्तियां जैसे तुलसी बाग गणपति, तोम्बडी जोगेश्वर गणपति, कस्बा गणपति, और  दगडूशेठ हलवाई गणपति काफी मशहूर है। पुणे में कई जगह देश के प्रमुख मंदिरों की प्रतिकृति भी बनाई जाती है।

यहां गणपति की मूर्ति भी हर रोज़ बदलती है अपना आकार


गणपति पूले 

महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले में भगवान गणेश का एक बेहद प्रशिद्ध और भव्य मंदिर है जिसे गणपति पूले के नाम से जाना आता है। यह मंदिर 400 साल पुराना है और यहाँ गणेश चतुर्थी के दौरान  बहुत भव्य कार्यक्रम किया जाता है। इस मंदिर के पीछे एक गणेश जी के आकार की पहाड़ी भी है। 


दिवेआगर 

दिवेआगर महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में स्थित एक गांव है। यह गांव तब बेहद चर्चा में आ गया था जब एक  80 वर्षीय महिला को खेत में भगवान गणेश की सोने की मूर्ति  मिली थी।  यहाँ पर भी गणेशोत्सव बेहद धूमधाम और हर्षोउल्लास से  मनाया जाता है। यहाँ का गणेश मंदिर और उसके पास मौजूद बीच भी पर्यटकों के लिए आकर्षण का एक बड़ा केंद्र है। 

यह भी पढ़े 

तो इस डर के कारण हर साल गणपति बप्पा को अपने घर लाते हैं सलमान

गणेश जी के हर अंग से बरसता हैं ज्ञान

माँ के बिना कैसा रहेगा जाह्नवी और ख़ुशी के लिए इस बार का गणेशोत्सव

?