Share:
भ्रष्टाचार के मामले में आंध्र के पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू गिरफ्तार, वैनिटी वैन से उठा ले गई CID, जल्द कोर्ट में होंगे पेश
भ्रष्टाचार के मामले में आंध्र के पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू गिरफ्तार, वैनिटी वैन से उठा ले गई CID, जल्द कोर्ट में होंगे पेश

गुंटूर: आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और तेलुगु देशम पार्टी (TDP) प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू को शनिवार को कौशल विकास घोटाला मामले में भ्रष्टाचार के सिलसिले में आपराधिक जांच विभाग (CID) ने गिरफ्तार कर लिया है। अपनी गिरफ्तारी के बाद चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया है। उन्होंने कहा कि, 'मैं लोगों और कैडरों दोनों से अनुरोध कर रहा हूं कि मैंने आज कुछ भी गलत नहीं किया है। लेकिन अधिकारी कल रात आए और बिना कोई सबूत दिखाए मुझे गिरफ्तार कर लिया।' बता दें कि, CID राज्य सरकार के आधीन काम करती है, ऐसे में इस गिरफ़्तारी पर होने वाले सियासी बवाल का प्रभाव भी बहुत हद तक राज्य में ही सीमित रहने का अनुमान है। हालाँकि, यदि कोई केंद्रीय एजेंसी किसी विपक्षी नेता को गिरफ्तार करती, तो हो सकता था कि, यह मामला राष्ट्रीय हो जाता और केंद्र सरकार पर एजेंसियों के गलत इस्तेमाल के आरोप लगते। 

रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने कहा कि, 'मैंने उनसे अपनी गिरफ्तारी का आधार पूछा और अवधारणा का सबूत मांगा। अब वे यहां एक FIR के साथ हैं, जिसमें मेरी भूमिका या किसी अन्य विवरण का कोई जिक्र नहीं है। यह बहुत दुखद और गलत है।' मामले में प्रथम सूचना रिपोर्ट (FIR) 2021 में दर्ज की गई थी। चंद्रबाबू नायडू को इस मामले में आरोपी नंबर 1 के रूप में नामित किया गया है, जिसमें 250 करोड़ रुपये से अधिक का मामला शामिल है। FIR का विवरण और अन्य विवरण चंद्रबाबू नायडू के अधिवक्ताओं को प्रदान किए गए, जिन्होंने प्रथम दृष्टया साक्ष्य की भी मांग की, जिसमें बताया गया कि FIR रिपोर्ट में पूर्व मुख्यमंत्री नायडू के नाम का उल्लेख नहीं किया गया था। अधिवक्ताओं की बात का जवाब देते हुए पुलिस अधिकारियों ने उन्हें 24 घंटे के अंदर रिमांड रिपोर्ट में सारी जानकारी उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया है। विवरण के अनुसार, चंद्रबाबू नायडू को मेडिकल जांच के लिए नंद्याल अस्पताल में स्थानांतरित किया जाना था। हालाँकि, अस्पताल जाने से इनकार करने के बाद एक शिविर में उनका मेडिकल चेक-अप किया गया। आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री को जल्द ही अदालत में पेश किया जाएगा। शनिवार तड़के आपराधिक प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 50 (1) (2) के तहत चंद्रबाबू नायडू को गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया, जब पूर्व मुख्यमंत्री आंध्र प्रदेश के नंदयाला शहर में एक सार्वजनिक संबोधन के बाद अपनी वैनिटी वैन में आराम कर रहे थे।

रिपोर्ट के अनुसार, नायडू के खिलाफ लगाई गई धाराएं गैर जमानती हैं। मामले के संबंध में पुलिस ने कहा कि अदालत को सभी विवरण और सामग्री उपलब्ध करा दी गई है। हाल ही में चंद्रबाबू नायडू ने दावा किया था कि उन्हें जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। शुक्रवार को आंध्र प्रदेश के समाज कल्याण मंत्री मेरुगा नागार्जुन ने जनता का पैसा लूटने के आरोप में चंद्रबाबू नायडू की गिरफ्तारी की मांग की थी। ताडेपल्ली में एक मीडिया सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा था कि, "कैश फॉर वोट मामले में वहां से भागने से पहले चंद्रबाबू ने हैदराबाद में लेक व्यू गेस्ट हाउस की मरम्मत के लिए 10 करोड़ रुपये खर्च किए थे। उन्होंने मुख्यमंत्री कार्यालय पर 10 करोड़ रुपये और चार्टर्ड उड़ानों के लिए 100 करोड़ रुपये और धर्म पोराटा दीक्षा पर 80 करोड़ रुपये खर्च किए।"  उन्होंने कहा, "हमारे मुख्यमंत्री ने उनकी तरह जनता का पैसा बर्बाद नहीं किया, बल्कि लोगों के खातों में प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण के माध्यम से 2.31 लाख करोड़ रुपये वितरित किए।"

भारत-अमेरिका के मजबूत होते रिश्ते, मोदी-बाइडेन के बीच रक्षा, प्रौद्योगिकी, ऊर्जा सहित इन मुद्दों पर हुई चर्चा

'भारत का दामाद' कहे जाने पर ब्रिटिश पीएम ऋषि सुनक ने दिया ऐसा रिएक्शन, G20 में शामिल होने आए हैं दिल्ली

छत्रपति शिवजी ने जिस हथियार से किया था अफजल खान का वध, इंग्लैंड से वापस लाया जा रहा वो 'वाघ नख'

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -