1965 में जंग नहीं चाहता था पाकिस्तान, भारत ने किया था हमला : गौहर खान

Sep 24 2015 04:59 PM
1965 में जंग नहीं चाहता था पाकिस्तान, भारत ने किया था हमला : गौहर खान

इस्लामाबाद : पाकिस्तान में ऐसे भी कुछ सैन्य अधिकारी और कर्मचारी हैं जो यह मानते हैं कि दोनों देशों के लिए सौहार्दपूर्ण रिश्ते अधिक जरूरी हैं। ये अधिकारी भी लड़ाई नहीं चाहते हैं लेकिन यदि सियासत या फिर दोनों देशों की सैन्य क्षमता का आंकलन करने की बात करें तो यह जानकारी सामने आती है कि पाकिस्तान भारत के सामने आज भी नहीं टिक सकता है। हालांकि पहले भी यही बातें सामने आती रही हैं कि पाकिस्तान के सैन्य अधिकारी उस समय भी जंग नहीं चाहते थे। हाल ही में पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति और सैन्य शासक अयूब खान के बेटे गौहर ने इस बात का खुलासा किया है कि पाकिस्तान का 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध का किसी तरह का इरादा नहीं था। जब भारत ने पाकिस्तान पर हमला कर दिया तो अयूब खान आश्चर्य चकित रहे गए। मगर गौहर खान के इस बयान पर भारत ने सहमति नहीं जताई है।

हालांकि गौहर अब राजनीति के मैदान में हैं और वे पाकिस्तान के विदेश मंत्री भी रह चुके हैं। गौहर ने एक मीडिया हाउस से विशेष चर्चा में कहा कि 6 सितंबर 1965 को भारतीय सेना द्वारा अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर उन्होंने हमला कर पाकिस्तानी सेना को आश्चर्य चकित कर दिया। इस्लामाबाद से फोन पर विशेष चर्चा में यह बात भी सामने आई कि पाकिस्तान ने युद्ध जीता और भारत जो दावे करता है वह गलत हैं।

गौहर ने ही भारत पर आरोप लगाते हुए कहा कि अब तो शांति की दरकार है। उल्लेखनीय है कि इस युद्ध में भारत ने पाकिस्तान के दांत खट्टे कर दिए थे। पाकिस्तान की भारी क्षति हुई थी। हालांकि भारतीय सेना के जवान भी शहीद हो गए थे, मगर पाकिस्तान ने जो टेंक अमेरिका से प्राप्त किए थे भारतीय सेना ने उनमें से 220 टैंकों ध्वस्त कर दिया था।