एफसीआई के डिपार्टमेंटल डिपो में कार्यरत सभी 108 नियमित कर्मचारियों का स्थानांतरण

राजनांदगांव। हाल ही में एफसीआई के डिपार्टमेंटल डिपो में कार्यरत सभी 108 नियमित कर्मचारियों का स्थानांतरण धमतरी डिपो में कर दिया गया है। वहीं एफसीआई में ठेका सिस्टम शुरू करने की तैयारी है। इसको लेकर डिपो के सभी कर्मचारी बीते 21 अगस्त से हड़ताल पर है। बुधवार को जब डिपो प्रबंधक ने गेट पर ताला जड़ दिया तो आक्रोशित हड़ताली कर्मचारी गेट के सामने चटाई बिछाकर धरने पर बैठ गए। कर्मचारियों ने एक साथ सभी कर्मचारियों के स्थानांतरण व डिपो में ठेका सिस्टम का विरोध भी किया। हालांकि पुलिस की समझाइश के बाद कर्मचारी गेट से हट गए, लेकिन कर्मचारी अपनी मांग पर अड़े हुए हैं।

एकसाथ कैसा स्थानांतरण

हड़ताली कर्मचारियों ने बताया कि डिपो में कार्यरत 108 सभी कर्मचारियों का एक साथ धमतरी डिपो में स्थानांतरण कर दिया गया है। इसमें 6 महिला कर्मचारी भी है। यह स्थानांतरण नियमों के विपरित है। कर्मचारियों का कहना है कि कभी भी स्थानांतरण अदला-बदली की स्थिति में होता है। अगर यहां के कर्मचारी का तबादला हो रहा है तो उसकी जगह में कोई दूसरा आएगा। लेकिन यहां तो एक-दो नहीं बल्कि जितने कर्मचारी है। सभी का तबादला कर दिया गया है। कर्मचारियों का मानना है कि ऐसा हो ही नहीं सकता।

प्रबंधन ने लगाया ताला

कर्मचारियों ने बताया कि तबादला व ठेका सिस्टम को लेकर पिछले दस दिन से हड़ताल जारी है। सांकेतिक रूप से सभी कर्मचारी विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन बुधवार को डिपो प्रबंधन ने ही गेट पर ताला लगाकर कर्मचारियों की आवाजाही बंद कर दी है। इसके कारण कर्मचारियों को गेट पर बैठना पड़ा। मामले पर कर्मचारी यूनियन के नेता तसलीम अंसारी ने बताया कि कर्मचारियों का स्थानांतरण के मामले को लेकर हमने लेबर कोर्ट व दिल्ली सुप्रीम कोर्ट में भी याचिका लगाई है। डिपो में ठेका नहीं होने देंगे। कर्मचारी यही रहेंगे। इसको लेकर हम लड़ाई लड़ रहे हैं।

'कोर्ट के आदेश का पालन करने कर्मचारियों को समझाइश दी गई है। सभी कर्मचारियों का ट्रांसफर हो चुका है। कोर्ट का ही आदेश है। डिपो में ठेका से काम लेने की तैयारी है, जिसका कर्मचारी विरोध कर रहे हैं।'

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -