बिहार के इस दफ्तर में हेलमेट लगाकर काम कर रहे है कर्मचारी, जानिए क्यों?
बिहार के इस दफ्तर में हेलमेट लगाकर काम कर रहे है कर्मचारी, जानिए क्यों?
Share:

कैमूर: बिहार से एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है यहाँ कैमूर जिला मुख्यालय स्थित मुख्य डाकघर में कर्मचारी हेलमेट लगाकर काम कर रहे हैं। कर्मचारियों को डर जर्जर हो चुकी इमारत है। ऊपर छज्जा का प्लास्टर टूटकर अक्सर गिरता रहता है। इसके कारण सुरक्षा में हेलमेट लगा लेते हैं। कई बार छज्जे का प्लास्टर टूटकर गिरा तो कर्मचारी बाल बाल बच गए। इसी के पश्चात् हेलमेट लगाकर काम करना शुरू कर दिया।

पोस्ट ऑफिस के कर्मचारियों ने बताया कि पिछले 7 वर्षों से यही हालत है। विभाग को कई बार पत्र भेजा गया, मगर विभाग के स्तर से किसी भी तरह की सुनवाई नहीं हुई। अब डर के साए में हेलमेट ही सहारा है। पोस्ट ऑफिस भभुआ के कर्मचारी अरुण कुमार ने कहा कि वे हेलमेट लगाकर कर्यालय में काम कर रहे हैं। यहां इमारत जर्जर है। छज्जे का प्लास्टर गिर जाता है। कई बार चोट भी लगी है। हमेशा काम करने के चलते भय बना रहता है। इसलिए हेलमेट लगाए हैं। हम चाहते हैं कि इसे दुरुस्त कराया जाए। कई बार लिखकर विभाग को भेजा गया, मगर सुनवाई नहीं हो रही है। कई बार हमारे बगल में ही प्लास्टर टूटकर गिर जाता है।

भभुआ पोस्टमास्टर इंद्रजीत सिंह ने बताया कि डाकघर भभुआ की मुख्य ब्रांच है, जहां की हालत जर्जर हो चुकी है। कभी प्लास्टर का टुकड़ा गिरता रहता है तो चोट भी लग जाती है। जो भी वहां बैठता है, वह सतर्कता से बैठता है तथा हेलमेट भी लगा लेता है कि सिर के ऊपर ना गिरे। हम सरकार से निवेदन करेंगे कि इसको बनवा दिया जाए, नहीं तो किसी की जान भी जा सकती है। 

कांग्रेस के स्थापना दिवस कार्यक्रम में नागपुर नहीं जाएंगी सोनिया और प्रियंका गांधी ! दो प्रमुख नेताओं के बिना होगा पार्टी का 'शक्ति प्रदर्शन'

'दुकानों पर कन्नड़ भाषा में नेमप्लेट लगाने की मांग..', विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों को बैंगलोर पुलिस ने हिरासत में लिया

क्या 'अयोध्या' जाएंगे शरद पवार ? राम मंदिर के निमंत्रण पर NCP प्रमुख ने दिया बड़ा बयान

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -