एक हाथी की टांग तोड़ दी

ोहन (अपने दोस्तो से शेखी बघारते हुए):- मैंने एक ही दिन में शेर की गर्दन तोड़ दी,
चीते के दो टुकड़े कर दिये और एक हाथी की टांग तोड़ दी।
दोस्त (हैरानी से):- फिर क्या हुआ?
मोहन: हुआ क्या? दुकानदार ने अपने खिलौनो की तोड़फोड़ के जुर्म में मुझे जेल भिजवा दिया...!!!

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -