शिक्षा विभाग ने पाठ्यक्रम को फिर से किया व्यवस्थित

Oct 24 2020 09:50 AM
शिक्षा विभाग ने पाठ्यक्रम को फिर से किया व्यवस्थित

शिक्षाशास्त्र में एक बड़ी कार्रवाई में, शिक्षा विभाग पाठ्यक्रम को फिर से व्यवस्थित करता है और 30 अक्टूबर तक पाठ्यक्रम बदलता है। कोविड-19 के बाद नया सामान्य होना अभी बाकी है और शिक्षा के मामले में बहुत कुछ परिवर्तन होने की उम्मीद है। राज्य शिक्षा विभाग प्राथमिक और मध्य विद्यालय के पाठ्यक्रम को फिर से आयोजित कर रहा है और शिक्षा की तकनीक को बदलने की सोच रहा है। प्रारंभिक योजनाओं के अनुसार, कक्षा I से VIII तक के पाठ्यक्रम को फिर से आयोजित किया जाएगा और 60 प्रतिशत कक्षाएं विभिन्न ऑनलाइन चैनलों, रेडियो-टीवी और डोर-टू-डोर के माध्यम से संचालित की जाएंगी।

इसके अलावा सिलेबस का 40 प्रतिशत प्रमुख रूप से व्यावहारिक विषयों के कठिन भागों को कवर करके स्कूल में पढ़ाया जाएगा। इसके अलावा, परियोजना-आधारित और असाइनमेंट-आधारित कार्य कठिन विषयों की बेहतर समझ सुनिश्चित करने के लिए माना जा रहा है। भविष्य के लिए इन योजनाओं पर विचार किया जा रहा है जब स्कूल फिर से खुले और कक्षाओं को कक्षाओं में छात्रों के लिए सुरक्षित रूप से संचालित किया जा सके। कक्षाएं विभिन्न पारियों और छोटे समूहों में आयोजित की जाएंगी। राज्य शिक्षा विभाग कक्षा एक से आठ तक के लिए शिक्षा तकनीकों में बदलाव लाने की योजना बना रहा है।

विभाग ने कोविड-19 से लड़ते हुए शिक्षा के लिए एक नई रणनीति तैयार करने और लागू करने के लिए राज्य भर के जिला प्रशिक्षण संस्थानों को जिम्मेदारी सौंपी है। राज्य शिक्षा विभाग पाठ्यक्रम को बदलने और नए सामान्य परिदृश्य में शिक्षण की नई पद्धति विकसित करने पर काम कर रहा है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP) 2020 के बाद, केंद्र सरकार भी कक्षा I से VIII तक के पाठ्यक्रम में एक बड़े बदलाव की तैयारी कर रही है, इसके बाद IX से XII तक की कक्षाओं में बदलाव देखने को मिलते है।

HP उच्च न्यायालय ने जूनियर स्टेनोग्राफर के पदों पर निकाली वेकेंसी, जल्द करें आवेदन

तेलंगाना हाई कोर्ट ने जिला न्यायाधीश के पदों पर निकाली भर्ती

AIIMS Delhi में सरकारी नौकरी पाने का अवसर, मिलेंगी ये सुविधाएं