Share:
आर्थिक पावरहाउस बनता भारत: विदेशी मुद्रा भंडार दुनिया में चौथे स्थान पर पहुंचा
आर्थिक पावरहाउस बनता भारत: विदेशी मुद्रा भंडार दुनिया में चौथे स्थान पर पहुंचा

नई दिल्ली: भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में पिछले सप्ताह 5 अरब डॉलर से अधिक की उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई है, जो 595.4 अरब डॉलर तक पहुंच गया है, जो पिछले तीन महीनों में उच्चतम स्तर है। यह उछाल भारत को दुनिया भर में विदेशी मुद्रा भंडार के चौथे सबसे बड़े धारक के रूप में स्थापित करता है। भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा जारी आंकड़ों से पता चलता है कि पिछले सप्ताह देखी गई लगभग 462 मिलियन डॉलर की गिरावट के विपरीत, पर्याप्त वृद्धि हुई है।

वैश्विक रैंकिंग और तुलना

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार केवल चीन, जापान और स्विट्जरलैंड से पीछे है। चीन के पास $3.1 ट्रिलियन का भंडार है, जापान के पास $1.1 ट्रिलियन का भंडार है, और स्विट्जरलैंड के पास $809 बिलियन से अधिक का भंडार है। भंडार में यह वृद्धि भारत की मजबूत और बढ़ती अर्थव्यवस्था का संकेत है।

विदेशी मुद्रा भंडार का आर्थिक महत्व

विदेशी मुद्रा भंडार, जिसमें किसी देश या उसके केंद्रीय बैंक के पास जमा धनराशि शामिल होती है, अंतरराष्ट्रीय लेनदेन और भुगतान को सुविधाजनक बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वे देश के आर्थिक स्वास्थ्य के प्रतिबिंब के रूप में कार्य करते हैं। आर्थिक चुनौतियों का सामना करने वाले देश अक्सर अपर्याप्त विदेशी मुद्रा भंडार से जूझते हैं, जिसका उदाहरण पड़ोसी देश पाकिस्तान और श्रीलंका हैं।

भारत के भंडार के घटक

भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में विदेशी मुद्रा, सोना, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) में विशेष आहरण अधिकार और IMF में आरक्षित पद शामिल हैं। विशेष रूप से, अमेरिकी डॉलर, यूरो, पाउंड और येन सहित अन्य देशों के मुद्रा भंडार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। भारत के पास वर्तमान में मुद्रा भंडार में $526 बिलियन, $46 बिलियन का सोना और $18 बिलियन का विशेष आहरण अधिकार है, जो उपयोग के लिए लचीलापन प्रदान करता है। आरक्षित स्थिति किसी देश द्वारा IMF के पास जमा किए गए धन का प्रतिनिधित्व करती है।

ऐतिहासिक संदर्भ और हालिया रुझान

भारत ने अक्टूबर 2021 में विदेशी मुद्रा भंडार में 645 बिलियन डॉलर का सर्वकालिक उच्च स्तर हासिल किया। इसके बाद, यूक्रेन-रूस युद्ध और मजबूत अमेरिकी डॉलर जैसे कारकों ने भंडार में कमी में योगदान दिया। कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी ने भारत के भंडार पर नकारात्मक प्रभाव डाला था।

मुद्रा और व्यापार प्रभाव को स्थिर करना

व्यापार को सुविधाजनक बनाने के अलावा, विदेशी मुद्रा भंडार किसी देश की मुद्रा को स्थिर करने में सहायक होते हैं। भारतीय रिजर्व बैंक रुपये की स्थिरता बनाए रखने के लिए विदेशी मुद्रा बाजार में हस्तक्षेप करता है, अपने भंडार से डॉलर बेचता है। व्यापार की गतिशीलता, विशेष रूप से एक तेल आयातक देश के रूप में, भारत के विदेशी मुद्रा भंडार को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करती है। भंडार में यह वृद्धि भारत की आर्थिक ताकत के लिए अच्छा संकेत है, जो वैश्विक आर्थिक चुनौतियों से निपटने की इसकी दृढ़ता और क्षमता को उजागर करती है।

AAP के स्थापना दिवस पर केजरीवाल ने पार्टी कार्यकर्ताओं को दी शुभकामनाएं, जेल में बंद नेताओं को किया याद

संसद के शीतकालीन सत्र से पहले मोदी सरकार ने बुलाई सर्वदलीय बैठक, इस बार कई अहम बिल होंगे पेश

मोबाइल में पाकिस्तानी मौलाना के जिहादी वीडियो देखता था लारेब हाश्मी, वहीं से बना कट्टरपंथी, बस कंडक्टर पर किया चापड़ से हमला

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -