डिजिटल होगा इंडियन मेडिकल एसोसिएशन

नई दिल्ली : तकनीकी विकास ने देश में दूरियों को मिटा दिया है और अलग-अलग शहरों में रहने वालों लोगों के बीच संचार को सुलभ बना दिया है. बदलती हुई दुनिया के साथ कदम से कदम मिलाते हुए भारत के आधुनिक चिकित्सा विज्ञान पद्धति के चिकित्सकों की प्रतिनिधि संस्था इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने पूरी तरह से डिजिटल तकनीक को अपनाने का फैसला किया है. आईएमए अपने संदेश को संस्था के ढाई लाख सदस्यों और आम लोगों तक पहुंचाने के लिए डिजिटल मीडिया को अपनाने जा रहा है. आईएमए के महासचिव के.के. अग्रवाल ने पत्रकार वार्ता में कहा, आईएमए ने कागज मुक्त संगठन बनने की प्रक्रिया शुरू कर दी है.

हमारा लगातार प्रयास रहा है कि मेडिकल पेशे को पारदर्शी और प्रभावशाली बनाने के साथ ही राष्ट्रीय महत्व से जुड़ी स्वास्थ्य संबंधी जागरूकता का बड़े स्तर पर प्रसार किया जाए. हम प्रधानमंत्री के डिजिटल इंडिया में जताए गए विश्वास का समर्थन करते हैं और इस माध्यम को चिकित्सकों और आम लोगों से संवाद करने के लिए प्रयोग करने की घोषणा करते हैं. उन्होंने बताया कि इस साल की शुरूआत से ही 2 लाख से अधिक चिकित्सकों को संस्थान की गतिविधियों और अहम स्वास्थ्य मामलों की सूचनाएं एसएमएस और ईमेल के जरिए हर रोज भेजी जा रही हैं. अपने अगले कदम के तौर पर आईएमए अंगदान के लिए एक वेबसाईट लांच करेगा, जिसके जरिए प्रत्येक चिकित्सक अंगदान करने की शपथ ले सकता है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -