ग्लेशियर फटने के बाद बिजनौर से बनारस तक जारी हुआ अलर्ट, गंगा में नाव चलाने पर लगी रोक

उत्तराखंड: उत्तराखंड के जोशीमठ में ग्लेशियर टूट चुका है। ग्लेशियर के टूटने से अचानक तबाही आ गई है जिससे उत्तराखंड के साथ-साथ केंद्र सरकार ने भी सतर्कता के निर्देश जारी किये हैं। जी दरअसल केंद्रीय जलशक्ति मंत्री ने चमोली के ऋषि गंगा नदी में ग्लेशियर फटने के बाद गंगा नदी के किनारे वाले जिलों को अलर्ट रहने का निर्देश जारी कर दिया है। अब गंगा नदी में पानी बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। इसी आशंका को मद्देनजर रखते हुए सुरक्षा के निर्देश जारी किए गए हैं। इस समय यूपी में बिजनौर से लेकर बनारस तक गंगा नदी के किनारे के शहरों के प्रशासन को सतर्क रहने का आदेश जारी हुआ है।

इसी के साथ ऋषिकेश में प्रशासन ने गंगा नदी में राफ्टिंग पर रोक भी लगा दी है। खबरों के मुताबिक यहाँ के लोगों से यह अपील की जा रही है कि 'गंगा का जलस्तर कभी भी बढ़ सकता है, इसलिए नदी के अंदर ना जाएं।' इस समय नदी के किनारे रहने वालों को भी सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। वहीं यूपी के विभिन्न शहरों में भी प्रशासन ने ऐसे ही निर्देश जारी कर दिए हैं और नदी किनारे के शहरों में गंगा नदी में नाव ले जाने पर रोक लगाई जा चुकी है।

खुद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा है कि, 'चमोली के रैणी गांव में ऋषिगंगा प्रोजेक्ट को भारी बारिश व अचानक पानी आने से क्षति की संभावना है। नदी में अचानक पानी आने से अलकनंदा के निचले क्षेत्रों में भी बाढ़ की संभावना है। तटीय क्षेत्रों में लोगों को अलर्ट किया गया है। नदी किनारे बसे लोगों को हटाया जा रहा है। साथ ही एहतियातन भागीरथी नदी का फ्लो रोक दिया गया है। अलकनन्दा का पानी का बहाव रोका जा सके इसलिए श्रीनगर डैम तथा ऋषिकेष डैम को खाली करवा दिया है। SDRF अलर्ट पर है। मेरी आपसे विनती है अफवाहें न फैलाएं। मैं स्वयं घटनास्थल के लिए रवाना हो रहा हूं।'

सुसाइड नोट में 'सरकार तारीख पर तारीख दे रही' लिखकर किसान ने की आत्महत्या

चमोली में ग्लेशियर टूटने से मची तबाही, प्रधानमंत्री मोदी और शाह ने लिया हालात का जायजा

दिल्ली के ओखला में आग का कहर, 20 से अधिक झुग्गियां हुई खाक

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -