केरल में मची भंयकर तबाही से 35 लोगों की मौत, 11 जिलों के लिए जारी येलो अलर्ट

तिरुवनंतपुरम: केरल में भारी बारिश और लैंडस्लाइड के बीच लगातार मरने वालों का आंकड़ा बढ़ता चला जा रहा है। मिली जानकारी के तहत केरल के सबसे अधिक प्रभावित जिलों में बारिश कम हुई, वहीं कई लोग यह देखकर हैरान रह गए कि उनके घरों का कोई निशान नहीं बचा है। बीते सोमवार के दिन राज्य में मरने वालों की संख्या बढ़कर 35 हो चुकी है और दक्षिणी राज्य में आगे भी तूफानी मौसम होने की संभावना जताई जा रही है। हाल ही में भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने बुधवार से प्रभावी 11 जिलों में येलो अलर्ट जारी किया, साथ ही गंभीर मौसम बने रहने की चेतावनी जारी की है।

आप सभी को बता दें कि कोक्कयार में एक बचाव दल ने तीन वर्षीय सचू साहुल का शव बरामद किया, जबकि दो लापता लोगों की तलाश जारी है। वहीं कोट्टायम के कवाली और प्लापल्ली में दो अलग-अलग भूस्खलन में 12 लोगों के मारे जाने के बाद मरने वालों की संख्या बढ़कर 15 हो गई, जबकि तीन बाढ़ के पानी में बह गए। इसी के साथ कवाली के सेंट मैरी चर्च में सोमवार को तीन बच्चों समेत एक ही परिवार के छह लोगों को दफनाते हुए दिल दहला देने वाला दृश्य देखा गया। यहाँ बाढ़ में एक घर के बह जाने का एक वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी जो हम आपको दिखा चुके हैं। उस घर के मालिक, केपी जेबी, एक निजी बस चालक है जिनका कहना है, उनकी 25 साल की बचत कुछ ही सेकंड में गायब हो गई। हालांकि, परिवार के सदस्य बच गए थे लेकिन, उनकी सालों की कमाई को पानी का सैलाब बहा ले गया। वह परेशान हैं अब उन्हें शुरू से अपनी जिंदगी की शुरूआत करनी होगी।

आप सभी को बता दें कि अधिकारियों ने 10 बांधों में रेड अलर्ट जारी किया है। वहीं पठानमथिट्टा जिले में कक्की और पंबा बांधों के स्लुइस गेट खोले गए। इसी के साथ राज्य के राजस्व मंत्री के राजन ने पठानमथिट्टा में एक समीक्षा बैठक के बाद कहा कि पंबा और अन्य नदियों में जल स्तर बढ़ने के कारण सबरीमाला पहाड़ी मंदिर की तीर्थयात्रा रोक दी गई है।

केरल में बारिश ने मचाई तबाही, 27 मरे।।।, IMD ने कहा- अभी और ख़राब होगा मौसम

केरल बाढ़ से प्रभावित लोगों को हर संभव मदद का आश्वासन दे रही राज्य सरकार

केरल बाढ़: जयराम रमेश ने गाडगिल पैनल की रिपोर्ट को लागू न करने पर लगाया आरोप

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -