पाकिस्तान में रविवार की प्रार्थना के दौरान चर्च पर आतंकी हमला

कराची: पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत की राजधानी क्वेटा में रविवार को हथियारों से लैस आतंकवादियों ने एक चर्च पर हमला किया. हमले में कम से कम आठ लोगों की मौत हो गई और 44 लोग घायल हो गए. घायलों में महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं. आतंकवादियों ने जिस वक्त हमला किया, उस समय वहां रविवार की प्रार्थना चल रही थी.

शहर के जारघोन मार्ग पर स्थित बेथेल मेमोरियल चर्च में यह हमला क्रिसमस से सिर्फ एक सप्ताह पहले हुआ है. सिविल अस्पताल के डॉ. वसीम बेग ने कहा कि हमले में नौ लोगों की मौत हो गई  और 44 अन्य लोग घायल हो गए. घायलों में से नौ की हालत गंभीर बनी हुई  है.

बलूचिस्तान के गृह मंत्री मीर सरफराज बुग्ती ने कहा कि जारघोन मार्ग स्थित बेथेल मेमोरियल चर्च पर हमले में कम से कम दो आत्मघाती हमलावर शामिल थे. उन्होंने कहा, ‘एक हमलावर को पुलिस ने भीषण मुठभेड़ में गेट पर ही मार गिराया. दूसरा हमलावर आत्मघाती जैकेट पहने चर्च के अंदर दाखिल हो गया और उसने खुद को उड़ा लिया.’ 

बलूचिस्तान के आईजी मोजम अंसारी ने कहा कि हमले के समय चर्च के अंदर करीब 400 लोग थे. अंसारी ने कहा कि चर्च की सुरक्षा में तैनात पुलिस ने समय से कार्रवाई करते हुए एक बड़ी घटना को टाल दिया. अंसारी ने कहा कि हमलावरों की संख्या तीन थी जिनमें से एक को पुलिस ने मार गिराया और दूसरे ने खुद को उड़ा लिया. तीसरा हमलावर वहां से भाग गया और पुलिस उसकी तलाश कर रही है. इसके पहले डीआईजी पुलिस अब्दुल रज्जाक चीमा ने कहा था कि हमले में दो और हमलावर शामिल थे लेकिन पुलिस द्वारा एक हमलावर को मार गिराए जाने के बाद वे वहां से भाग निकले.

बता दे की  क्रिसमस के मौके पर चर्च में पूरे दिसंबर महीने में कई कार्यक्रमों का आयोजन किया गया  था. हमले के समय चर्च में ‘संडे स्कूल क्रिसमस’ कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा था. बलूचिस्तान सरकार में सूत्रों ने बताया कि कुछ दिन पहले कुछ स्कूलों और चर्चों को तहरीक-ए-पाकिस्तान के सज्जन समूह की ओर से धमकी भरे पत्र मिले थे. ये धमकियां कराची और लाहौर में भी मिली थीं. इसके बाद मिशनरी स्कूलों ने परीक्षाएं रद्द कर दी थीं और क्रिसमस की छुट्टियां निर्धारित समय से पहले ही घोषित कर दी गयी थीं.

गौर करने वाली बात यह है ही ये दिल दहलाने वाला हमला 2014 के पेशावर स्कूल हमले की तीसरी बरसी के एक दिन बाद हुआ है, जिसमें करीब 150 लोगों की मौत हो गई थी. मृतकों में अधिकतर बच्चे थे. विदेश कार्यालय के प्रवक्ता मुहम्मद फैसल ने आतंकी हमले की निंदा की और कहा कि आतंकवादियों के ऐसे कायराना हमलों से आतंकवाद के खिलाफ पाकिस्तान का संकल्प प्रभावित नहीं होगा. पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के अध्यक्ष इमरान खान ने भी आतंकवादी हमले की निंदा की है.

प्रेगनेंसी में हाई डायबटीज से बच्चें को बड़ा खतरा

US के लिए नार्थ कोरिया सबसे बड़ा खतरा

कैलिफोर्निया में दावानल का फैलना जारी

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -