CM की कुर्सी जाते ही उद्धव को तेवर दिखाने लगी कांग्रेस, कल तक साथ चला रहे थे सरकार

मुंबई: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने वाले उद्धव ठाकरे ने बहुमत परिक्षण का सामना किए बगैर ही इमोशनल भाषण देते हुए विदाई ले ली है। बताया जा रहा है कि उन्होंने अपनी छवि सत्ता के खेल से परे रहने वाले और सिद्धांतों पर डटने वाले शख्स के रूप में पेश करने का प्रयास किया है। मगर, उनके इस फैसले पर उस कांग्रेस के नेता ने ही सवाल खड़े कर दिए हैं, जिसे उद्धव ने अपने विदाई भाषण में थैंक्यू कहा था। 

दरअसल, पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने उद्धव ठाकरे के इस्तीफे पर सवाल खड़े करते हुए कहा है कि वह लड़ना नहीं चाहते हैं। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि, 'उद्धव ठाकरे को बगैर फेसबुक लाइव के विधानसभा में आना चाहिए था और अपनी बात रखते हुए त्यागपत्र देना था।' चव्हाण ने उद्धव ठाकरे की नेतृत्व क्षमता पर भी सवाल उठाए हैं।

चव्हाण ने कहा कि उद्धव को मालूम ही नहीं था कि इतने सारे लोग परेशान थे। वे बगावत के सदमे से बाहर नहीं निकले। वह कहता रहा कि मेरे कितने आदमियों ने उसे धोखा दिया है। उन्हें पता नहीं था कि उनके नीचे क्या चल रहा है। यह नेतृत्व कौशल का सवाल है। यदि उन्होंने भाजपा को रोकने के लिए कोई दूसरा विकल्प दिया होता तो हम तैयार हो जाते। पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि, 'अब उद्धव ठाकरे की लड़ने की कोई इच्छा नहीं है।'

अग्निपथ योजना के खिलाफ पंजाब विधानसभा में प्रस्ताव पेश

कांग्रेस नेता वही बोलेंगे जो गांधी परिवार सुनना चाहेगा ? प्रमोद कृष्णन और मनीष तिवारी को पड़ी फटकार

'हमरो पहाड़' सॉन्ग रिलीज कर CM धामी ने गिनाई अपनी ये कामयाबियां,

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -