जिनपिंग ने दिए सैन्य क्षमता सुधारने के निर्देश

बीजिंग। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग द्वारा, चीन के सैन्य बलों को उनकी संघर्ष क्षमताओं और युद्ध की तैयारी को सुधारने के निर्देश दिए गए। चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय समिति के महासचिव व केंद्रीय सैन्य आयोग के प्रमुख शी जिनपिंग ने सीएमसी के संयुक्त सैन्य कमान का निरीक्षण करने के दौरान, इस तरह की टिप्पणी की थी। जिनपिंग ने कहा कि, सैन्य बलों को लड़ने व युद्ध में जीत दर्ज करने हेतु सभी को तैयार करने के लिए, सीएमएसी को उनका नेतृत्व करना होगा।

इसके साथ ही शी ने सैन्य बलों की भूमिका को रेखांकित किया। पीएलए को विश्व की सबसे बड़ी सैन्य शक्ति माना जाता है। इतना ही नहीं, एशिया में इसकी तुलना में अन्य कोई देश टिक नहीं पाता है। विश्व के सबसे बड़े सैन्य बल पीएलए में 23 लाख जवान व अधिकारी सम्मिलित हैं।

चीन की आक्रमकता और उसके प्रभाव का एक कारण, उसकी सेना भी है। हालांकि वियतनाम से चीन की तल्ख्यिां चल रही हैं लेकिन, वह दक्षिण चीन सागर में अधिकार की लड़ाई में रूनेई, फिलीपींस, मलेशिया, वियतनाम व ताइवान के साथ खराब रिश्तों के लिए भी जाना जाता है।

चीन, भारत को लेकर अपनी हेकड़ी दिखाना चाहता था। कई बार चीन, भारत के मामले में कड़ाई अपनाता है। वह भारत के अरूणाचल प्रदेश समेत कई क्षेत्रों में काफी अंदर तक दाखिल हो जाता है। ऐसे में सीमावर्ती क्षेत्रों को लेकर विवाद के हालात बन जाते हैं।

आतंकवाद के खिलाफ भारत का संघर्ष जारी रहेगा

भारत-चीन के सैनिक डोकलाम में मौजूद

चीन में बन रही है केकड़े के आकार की ईमारत

सेना जंग के लिए मुस्तैद रहे - जिनपिंग

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -