गरीबी के कारण बने थे ईसाई, अब 1200 लोगों ने हिन्दू धर्म में की घर वापसी

रायपुर: छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले के पत्थलगांव के खूँटापानी में 400 परिवार के 1200 सदस्यों ने हिंदू धर्म में वापसी की है। इन लोगों को तीन पीढ़ी पहले ईसाई बना दिया गया था। दो दिन के कार्यक्रम में हजारों की तादाद में लोग एकत्रित हुए। इस कार्यक्रम का आयोजन आर्य समाज और हिंदू समाज द्वारा किया गया था। इस दौरान भाजपा के प्रदेश मंत्री व घर वापसी अभियान के प्रमुख प्रबल प्रताप सिंह जूदेव ने सभी लोगों का पाँव धुलाकर हिंदू धर्म में पुनः उनका स्वागत किया।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, प्रदेश मंत्री व जशपुर राजपरिवार के प्रबल प्रताप सिंह ने कार्यक्रम में शामिल होते हुए कहा कि हिंदुत्व की रक्षा करना उनके जीवन का एकमात्र संकल्प है। उन्होंने बताया कि घर वापसी करने वाले ज्यादातर परिवार बसना सराईपाली के रहने वाले थे। उन्होंने कहा कि, 'आज इतनी अधिक तादाद में लोगों की उनके मूल धर्म में वापसी अच्छे संकेत हैं। किसी की मजबूरी का अनुचित लाभ उठाकर किया गया काम कभी टिकाउ नहीं होता है। मिशनरियों ने गरीबों की विवशता का नाज़ायज़ फायदा उठाकर उनका धर्मांतरण किया था। शिक्षा व स्वास्थ्य के नाम पर धर्म का सौदा किया था, पर हम निरंतर इन षड्यंत्रों को बेकनाब करते रहेंगे।'

वहीं हिंदू धर्म में वापसी करने वाले परिवारों ने बताया कि लगभग 3 पीढ़ी पहले उनके पूर्वजों का धर्मांतरण हुआ था। उस समय वे काफी गरीब थे और मिशनरियों की तरफ से खेती में कुछ (आर्थिक) मदद और बीमारियों में उपचार की सहायता मिलने के कारण धर्म परिवर्तन किया था, लेकिन अब वे जागरूक हो गए हैं।

सिंगापुर में अगले साल से दिया जाएगा 12 वर्ष के कम उम्र वालों को कोरोना का टीका

SBI ने अपने ग्राहकों को किया अलर्ट! गलती से भी ना करें ये काम, वरना...

क्रिप्टो ट्रेडिंग और होल्डिंग में बाधा पैदा कर सकता है भारत

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -