छठ पूजा को लेकर उत्तराखंड में हुई जबरदस्त तैयारी, गंगाघाटों पर तैनात हुई टीमें

देहरादून: 4 दिवसीय लोक आस्था के महापर्व छठ के तीसरे दिन बुधवार को व्रती औरतों का निर्जला व्रत जारी है। सूर्य पूजा के त्यौहार छठ के दूसरे दिन मंगलवार शाम को महिलाओं ने गुड़ एवं चावल से बनी खीर खाकर पूजा का संकल्प लिया। बुधवार की शाम को अस्तांचलगामी सूर्य को प्रथम अर्घ्य दिया जाएगा। बृहस्पतिवार की प्रातः व्रती उगते सूरज को अर्घ्य देकर ही जल एवं अन्न ग्रहण करेंगे। पूर्वा सांस्कृतिक मंच के हजारों छठ व्रतियों ने प्रदेश स्थापना दिवस पर संध्या की ‘खरना’ को राज्य के कल्याणार्थ समर्पित किया।    

मंगलवार से सूर्य पूजा का महापर्व छठ नहाय-खाय के साथ आरम्भ हो गया। 4 दिन तक चलने वाले इस महापर्व के पहले दिन व्यक्तियों ने घरों एवं घाटों की खास साफ-सफाई की। मंगलवार को खरना मनाया गया। प्रदेश के तकरीबन सभी जिलों के पूर्वा सांस्कृतिक मंच से संबंधित छठ व्रतियों ने छठी मईया से उत्तराखंड का कल्याण व सुख समृद्धि की कामना करते हुए पूजा-अर्चना की।

साथ ही पूर्वा सांस्कृतिक मंच की तरफ से बुधवार की संध्या अर्घ्य के लिए अपनी तैयारी को चाक चौबंद कर दिया गया है। मंच ने व्रतियों की प्रशिक्षित टीम ‘मंत्र वूमेन’  सूचनाओं व समन्वय के लिए ‘मंच इन्फर्मेशनल’ तथा तमाम घाटों के इंतजाम को सुचारू बनाए रखने के लिए युवाओं की टीम ‘मंच ऑपरेशनल’ बनाई है। इसके अतिरिक्त आपातकालीन चिकित्सा सेवा के लिए मंच ने अपने सभी 178 डॉक्टर्स को शाम 4 से 7 बजे तक तैनात रहने के लिए कहा है।

आज डूबते और कल उगते सूर्य ​को अर्घ्य देगी महिलाएं, जानिए इससे जुड़ी जरुरी बातें

Video: तेज रफ़्तार ऑडी ने 11 लोगों को बुरी तरह रौंदा..., भयावह मंजर देख काँप उठे लोग

UN में चीन पर जमकर दहाड़ा भारत, कहा- हमारी मदद किसी को कर्जदार नहीं बनाती

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -