दो महीने में शुरू होगी चार धाम यात्रा, बारबारी होगी सबसे बड़ी चुनौती `

देहरादून: मौसम के उतार-चढ़ाव के बीच चार धाम यात्रा की चुनौतियां बदस्तूर कायम हैं। मौसम विभाग के मुताबिक मार्च में भी उच्च हिमालयी क्षेत्रों में बर्फबारी होने की संभावना है। ऐसे में यात्रा की तैयारियों में लगे प्रशासन के लिए इंतज़ाम करने में दिक्कतें आ सकती हैं। बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के मार्गों पर विभिन्न जगहों पर बड़ी मात्रा में बर्फ जमी हुई है। 

सप्ताह के आखिरी दिन थमी गिरावट सोने की कीमतों में आई तेजी

पहली बड़ी चुनौती तो मार्ग को आवागमन के लिए सुगम बनाना है। इसके बाद सारे धामों से बर्फ हटाने में भी काफी समय लगेगा। हालांकि प्रशासन ने दावा किया है कि वे यात्रा के लिए पूरी तरह से तैयार हैं, किन्तु अब सब कुछ मौसम पर निर्भर करेगा। चारों धामों के कपाट खुलने की तिथि का ऐलान हो चुका है। गंगोत्री व यमुनोत्री के कपाट 7 मई और केदारनाथ व बदरीनाथ के कपाट क्रमश: 9 व 10 मई को खुलने वाले हैं। यानी यात्रा के औपचारिक उद्घाटन में अब दो माह ही बाकी हैं। बदरीनाथ और केदारनाथ में लगभग आठ से दस फीट बर्फ की मोटी चादर जमी हुई है। गंगोत्री और यमुनोत्री में भी पांच से सात फीट मोटी बर्फ बिछी हुई है।

महिला दिवस के मौके पर पंजाब सरकार ने दिया यह ख़ास तोहफा

चमोली की जिलाधिकारी स्वाति भदौरिया ने जानकारी देते हुए बताया है कि बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर हनुमानचट्टी से लेकर बदरीनाथ तक लगभग 12 किलोमीटर के मार्ग पर छह से सात जगहों पर 15 फीट ऊंचे हिमखंड हैं। हनुमानचट्टी से आगे का रास्ता फिलहाल भारी बर्फ के कारण बंद है। उन्होंने कहा है कि प्रशासन अपनी ओर से पूरी तरह तैयार है, किन्तु सब कुछ मौसम के मिजाज पर निर्भर करेगा।

खबरें और भी:-

महिला दिवस पर महिलाओं को खुद की तरह हवा में उड़ने के लिए कह रही है यह एक्ट्रेस

2018-19 में रिकॉर्ड तोड़ेगा देश का वस्तु निर्यात स्तर

डॉलर के मुकाबले रुपये में नजर आई 26 पैसे की कमजोरी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -