Share:
आज ही बदले ये आदतें, वरना वक्त के पहले हो जाएंगे बूढ़े
आज ही बदले ये आदतें, वरना वक्त के पहले हो जाएंगे बूढ़े

हमारे तेज़-तर्रार दैनिक जीवन में, हम अक्सर व्यस्त कार्यक्रम और अस्वास्थ्यकर आदतों के कारण अपने शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की उपेक्षा करते हैं। हालाँकि, यदि हम एक स्वस्थ और लंबा जीवन जीने की इच्छा रखते हैं, तो अपनी दैनिक दिनचर्या पर ध्यान देना और आवश्यक बदलाव करना महत्वपूर्ण है। आयुर्वेद, चिकित्सा की एक प्राचीन प्रणाली, संतुलन और कल्याण बनाए रखने पर बहुमूल्य मार्गदर्शन प्रदान करती है। इस लेख में, हम कुछ सामान्य आदतों के बारे में जानेंगे जिनसे आयुर्वेद हमें स्वस्थ और लंबे जीवन के लिए बचने की सलाह देता है।

बिना भूख के भोजन करने से बचें
जब आपको वास्तव में भूख लगे तो आयुर्वेद खाने के महत्व पर जोर देता है। भूख इस बात का संकेत है कि आपका पिछला भोजन पच चुका है और आपका शरीर अधिक पोषण के लिए तैयार है। सच्ची भूख के बिना भोजन करने से आपके लीवर और पाचन तंत्र पर बोझ पड़ सकता है। अपने खान-पान की आदतों के प्रति सचेत रहना आवश्यक है और भोजन तभी खाएं जब आपको सच्ची भूख हो। भूख के संकेतों को नजरअंदाज करना और आदत से बाहर खाना आपके पाचन और चयापचय को बाधित कर सकता है।

देर रात के भोजन से बचें
आयुर्वेदिक विशेषज्ञों के अनुसार, सोने का सबसे अच्छा समय रात 10 बजे से पहले है। रात 10 बजे से 2 बजे के बीच की अवधि तब होती है जब शरीर अपनी चरम पित्त (पाचन अग्नि) गतिविधि का अनुभव करता है। यदि आप अपना रात्रि भोजन लगभग 7-7:30 बजे तक समाप्त कर लेते हैं और जल्दी सो जाते हैं, तो आपका शरीर दिन भर में खाए गए भोजन को कुशलतापूर्वक पचा सकता है। हालाँकि, देर रात खाना खाने से यह प्राकृतिक लय बाधित हो जाती है, जिससे नींद की गुणवत्ता ख़राब हो जाती है। अपर्याप्त नींद के परिणामस्वरूप मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं, विटामिन की कमी और पाचन संबंधी गड़बड़ी सहित विभिन्न समस्याएं हो सकती हैं।

देर रात के खाने से बचें
आदर्श रूप से, रात का खाना सूर्यास्त से पहले या रात 8 बजे से पहले खा लेना चाहिए। रात 9 बजे के बाद रात का खाना खाने से आपके मेटाबॉलिज्म, लिवर डिटॉक्सीफिकेशन और नींद के पैटर्न पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। देर रात का भोजन मधुमेह, उच्च कोलेस्ट्रॉल, मोटापा और हृदय रोग जैसी स्थितियों से जुड़ा हुआ है। अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए, दिन का अपना अंतिम भोजन उचित समय पर समाप्त करना महत्वपूर्ण है।

मल्टीटास्किंग से बचें
एक साथ कई कार्यों में संलग्न होने से, जिसे अक्सर मल्टीटास्किंग कहा जाता है, तनाव के स्तर में वृद्धि हो सकती है। यह अत्यधिक तनाव हार्मोनल संतुलन को बाधित कर सकता है और आपको जीवनशैली से संबंधित विकारों के प्रति अधिक संवेदनशील बना सकता है। तनाव कम करने और उत्पादकता बढ़ाने के लिए एक समय में एक ही कार्य पर ध्यान केंद्रित करने की सलाह दी जाती है। एकल-कार्य को प्राथमिकता देने से बेहतर मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य में योगदान मिल सकता है।

अत्यधिक व्यायाम से बचें
जहां अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए नियमित व्यायाम आवश्यक है, वहीं अत्यधिक परिश्रम के प्रतिकूल प्रभाव हो सकते हैं। कुछ व्यक्ति अपनी शारीरिक क्षमता से अधिक काम कर सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप खांसी, बुखार, अत्यधिक प्यास और यहां तक कि उल्टी जैसी स्थितियां हो सकती हैं। उचित पोषण के बिना अत्यधिक व्यायाम करने से थकान और अन्य स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। सर्वोत्तम स्वास्थ्य सुनिश्चित करने के लिए व्यायाम और आराम के बीच संतुलन बनाना महत्वपूर्ण है।

आयुर्वेदिक सिद्धांतों को अपने दैनिक जीवन में शामिल करने से बेहतर शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण योगदान मिल सकता है। बिना भूख के खाना, देर रात खाना, देर से खाना, एक साथ कई काम करना और अत्यधिक व्यायाम जैसी आदतों से बचना आपको स्वस्थ और लंबा जीवन जीने में मदद कर सकता है। ध्यानपूर्वक भोजन करने, संतुलित नींद के कार्यक्रम और तनाव प्रबंधन को प्राथमिकता देकर, आप आयुर्वेद के ज्ञान के अनुसार बेहतर स्वास्थ्य और जीवन शक्ति प्राप्त कर सकते हैं।

सीएम केजरीवाल ने किया 'राम राज्य' का जिक्र, बोले- मुफ्त शिक्षा और मुफ्त स्वास्थ्य सेवा...

घर पर इस आसान रेसिपी से बनाएं ढाबा स्टाइल पनीर भुर्जी, खाकर आ जाएगा मजा

दिल की सेहत के लिए फायदेमंद है हरा प्याज, जानिए कैसे करें इस्तेमाल

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -