Share:
आपके लिए खतरनाक हो सकती है कुर्सी, स्टडी में हुआ खुलासा
आपके लिए खतरनाक हो सकती है कुर्सी, स्टडी में हुआ खुलासा

आज के युग में, एक बड़ी आबादी गतिहीन डेस्क नौकरियों में लगी हुई है, जिसके लिए उन्हें नौ घंटे की शिफ्ट के दौरान लगभग आठ घंटे बैठना पड़ता है। यह गतिहीन जीवनशैली न केवल स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण जोखिम पैदा करती है बल्कि विभिन्न बीमारियों की संभावना भी बढ़ाती है, जिसके संभावित परिणाम घातक हो सकते हैं।

खराब खान-पान की आदतों के अलावा, गतिहीन जीवनशैली के कारण युवा व्यक्तियों में मधुमेह और हृदय संबंधी बीमारियों जैसी गंभीर बीमारियों का प्रसार बढ़ रहा है। लंबे समय तक बैठे रहना कई बीमारियों का एक प्रमुख कारण है। आइए एक हालिया अध्ययन पर गौर करें और निवारक उपायों का पता लगाएं।

बढ़ते हृदय संबंधी जोखिम:
ताइवान में स्वास्थ्य निरीक्षकों द्वारा 481,688 प्रतिभागियों को शामिल करते हुए किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि जो व्यक्ति लंबे समय तक बैठे रहते हैं, उनमें हृदय रोगों का खतरा 34% अधिक होता है।

मृत्यु दर में वृद्धि:
लिंग, आयु, बॉडी मास इंडेक्स और धूम्रपान की आदतों जैसे कारकों पर विचार करते हुए एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि मुख्य रूप से गतिहीन व्यवसायों वाले व्यक्तियों को मृत्यु दर का 16% अधिक जोखिम का सामना करना पड़ता है। इसके विपरीत, जो लोग बारी-बारी से बैठते और खड़े रहते थे या लगातार कम बैठते थे, उनमें मृत्यु दर का जोखिम कम था।

निवारक उपाय:
शोध से पता चलता है कि दैनिक शारीरिक गतिविधि को 15 से 30 मिनट तक बढ़ाने से मृत्यु दर के जोखिम को काफी कम किया जा सकता है। गतिहीन नौकरियों वाले व्यक्तियों के लिए, सुबह के वर्कआउट के अलावा, पूरे दिन शारीरिक गतिविधि के छोटे दौर को शामिल करना आवश्यक है।

निष्कर्षतः, डेस्क जॉब से जुड़ी गतिहीन जीवनशैली हृदय संबंधी बीमारियों और बढ़ती मृत्यु दर सहित गंभीर स्वास्थ्य जोखिम पैदा करती है। इन जोखिमों को कम करने के लिए, व्यक्तियों को नियमित शारीरिक गतिविधि को प्राथमिकता देनी चाहिए, यहां तक कि गतिहीन नौकरी की बाधाओं के भीतर भी। मूवमेंट ब्रेक को शामिल करने और अधिक सक्रिय जीवनशैली अपनाने से समग्र स्वास्थ्य और कल्याण में काफी सुधार हो सकता है।

मिथुन चक्रवर्ती से मिलने पहुंचे BJP नेता, अस्पताल से सामने आया VIDEO

डायबिटिज ही नहीं दिल के मरीज भी संभलकर करें इस एक चीज का सेवन, वरना बढ़ जाएगी दिक्कतें

जानिए 3 साल की उम्र के बाद क्यों जरूरी है आंखों की नियमित जांच?

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -