क्या सनस्क्रीन लगाने से हो सकती है विटामिन डी की कमी? यहाँ जानिए
क्या सनस्क्रीन लगाने से हो सकती है विटामिन डी की कमी? यहाँ जानिए
Share:

समग्र कल्याण की खोज में, लोग अपनी स्वास्थ्य दिनचर्या के साथ-साथ त्वचा की देखभाल को भी प्राथमिकता दे रहे हैं। सनस्क्रीन दैनिक दिनचर्या का एक अभिन्न अंग बन गया है, लोग त्वचा को स्वस्थ बनाए रखने में इसकी भूमिका को पहचानने लगे हैं। जबकि सनस्क्रीन गर्म और ठंडे दोनों मौसमों में त्वचा की सुरक्षा के लिए आवश्यक है, यह चिंता बढ़ रही है कि इसके उपयोग से शरीर में विटामिन डी का स्तर कम हो सकता है।

कुछ लोगों का मानना है कि सनस्क्रीन लगाने से विटामिन डी का स्तर कम हो सकता है। कई अध्ययनों ने इस मुद्दे का पता लगाया है, और हार्वर्ड की एक रिपोर्ट के अनुसार, सनस्क्रीन हानिकारक यूवीबी किरणों को अवरुद्ध करके सनबर्न को प्रभावी ढंग से रोकता है। इसका तात्पर्य यह है कि सनस्क्रीन का उपयोग विटामिन डी के स्तर को प्रभावित कर सकता है, लेकिन यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि केवल कुछ प्रतिशत व्यक्ति ही नियमित रूप से और पर्याप्त मात्रा में सनस्क्रीन का उपयोग करते हैं।

विशेषज्ञों का दृष्टिकोण:
सौंदर्य विशेषज्ञों का कहना है कि सनस्क्रीन लगाने से विटामिन डी में संभावित कमी पर चर्चा करना एक जटिल मामला है। सनस्क्रीन त्वचा की सुरक्षा के प्राथमिक उद्देश्य को पूरा करता है, लेकिन विटामिन डी के स्तर पर संभावित प्रभावों पर विचार करना आवश्यक है। पर्याप्त विटामिन डी मुख्य रूप से सूर्य के प्रकाश के संपर्क से प्राप्त होता है, और जबकि सूर्य का प्रकाश एक प्राकृतिक स्रोत है, यह त्वचा पर हानिकारक प्रभाव भी डालता है, जिससे सनस्क्रीन के उपयोग की आवश्यकता होती है।

आम धारणा यह है कि उच्च एसपीएफ़ वाले सनस्क्रीन विटामिन डी के अवशोषण को अवरुद्ध कर सकते हैं। इसलिए, त्वचा की सुरक्षा और पर्याप्त विटामिन डी के स्तर को बनाए रखने के बीच संतुलन बनाने के लिए सनस्क्रीन का उचित उपयोग करना महत्वपूर्ण है।

यूवी किरणों का प्रभाव:
विशेषज्ञ इस बात पर जोर देते हैं कि सनस्क्रीन लगाने के बाद भी यूवी किरणें त्वचा पर प्रभाव डालती हैं। हालाँकि, बहुत से लोग सनस्क्रीन का सही ढंग से उपयोग करने में विफल रहते हैं, और विशेषज्ञ हर दो घंटे में दोबारा सनस्क्रीन लगाने की सलाह देते हैं। चाहे किसी भी प्रकार की सनस्क्रीन का उपयोग किया जाए, त्वचा पर यूवी किरणों का कुछ प्रभाव हमेशा रहेगा। पर्याप्त रूप से विटामिन डी की पूर्ति के लिए, सप्ताह में 2-3 बार बिना सनस्क्रीन के 15 मिनट धूप में बिताने का सुझाव दिया जाता है।

अंत में, सनस्क्रीन दुविधा में त्वचा को हानिकारक यूवी किरणों से बचाने और पर्याप्त विटामिन डी स्तर सुनिश्चित करने के बीच एक नाजुक संतुलन ढूंढना शामिल है। जबकि सनस्क्रीन त्वचा की सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण है, व्यक्तियों को अपने सूरज के जोखिम के प्रति सचेत रहने और उचित सनस्क्रीन उपयोग अपनाने की आवश्यकता है। नियमित और पर्याप्त अनुप्रयोग, साथ ही बिना सनस्क्रीन के समय-समय पर धूप में रहना, स्वस्थ त्वचा और इष्टतम विटामिन डी स्तर दोनों को बनाए रखने में योगदान दे सकता है।

जानिए शिशु को कब और कितना पानी पिलाना है सही

लाख कोशिशों के बाद भी नहीं आती है रात को नींद? तो सोने से पहले अपनाएं ले ये नुस्खा, मिलेगी राहत

लाख जतनों के बाद भी साफ नहीं हो रहा पेट? तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खा, तुरंत मिलेगी राहत

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -