Share:
अब जल्द ही पेशाब से बनेंगे आपके घर, प्रक्रिया जानकर हैरान हो जाएंगे
अब जल्द ही पेशाब से बनेंगे आपके घर, प्रक्रिया जानकर हैरान हो जाएंगे

आज तक आपने गोबर, मिटटी और सीमेंट से बने घरों के बारे में तो जरूर सुना ही होगा लेकिन क्या कभी आपने पेशाब से बने घरों के बारे में सुना है. नहीं ना.... अब आप भी ये ही सोच रहे होंगे कि ये कैसा वाहियाद सा सवाल है? तो हम आपको बता दें जल्द ही ऐसा असलियत में होने वाला है. जी हां... दक्षिण अफ्रीका के केप टाउन विश्वविद्यालय के कुछ छात्रों ने पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए एक अनूठा प्रयोग किया है. इन छात्रों ने ईट बनाने के लिए इंसान की पेशाब का इस्तेमाल किया है.

शेरनी ने अपने ही बच्चों के पिता को बेरहमी से मार डाला, हर कोई है हैरान

केपटाउन विश्वविद्यालय के निरीक्षक डायलन रैंडल ने इस बारे में बातचीत करते हुए बताया कि इस ईट को बनाने की प्रक्रिया भी ठीक वैसी ही होगी जैसे कि समुद्र में कोरल (मूंगा) बनता है. सामान्य ईट को आकर देने के बाद उसे उच्च तापमान में भट्ठियों पर पकाया जाता है और इसके कारण कार्बन-डाईऑक्साइड बनती है और ये प्रदुषण को काफी ज्यादा नुकसान भी पहुंचाती है. छात्रों ने ईट को 'बायो ब्रिक' नाम दिया है. इसे बनाने के लिए उन्होंने शौचालय से पेशाब इक्कठा किया और फिर उससे खाद बनाया.

यहां पिछले 70 सालों से नहीं हुई किसी की भी मौत, वजह हैरान कर देगी

इस एक ईट को बनाने में 25 से 30 लीटर पेशाब लगता है. रिपोर्ट्स के अनुसार एक व्यक्ति दिनभर में 200 से 300 मिलीलीटर पेशाब करता है. इसका मतलब अगर बियो ब्रिक बनानी हुई तो इसके लिए 100 बार पेशाब करना होगा. इस तरह की ईटे बनाने का काम कुछ साल पहले अमेरिका में भी शुरू हुआ था. उस दौरान सिंथेटिक यूरिया का इस्तेमाल किया गया था और इसलिए मानव मल से दोबारा ईट बनाने की संभावना बढ़ गई है.

खबरें और भी....

यूरोप के एक देश में बसा है एक और देश जो अपने आप में ही है अनोखा

रात को अकेली सोती थी लड़की सुबह बिस्तर पर होता था कोबरा

पानी की दो बोतलें मंगवाने के बदले टिप में मिले इतने लाख रूपए, जानकर उड़ जाएंगे होश

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -