अंतरिक्ष वैज्ञानिक ने सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को बताया कायराना
अंतरिक्ष वैज्ञानिक ने सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को बताया कायराना
Share:

भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल हुए प्रख्यात अंतरिक्ष वैज्ञानिक जी माधवन नायर ने हाल ही में सबरीमला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर हैरान कर देने वाला बयान दिया है. सूत्रों की माने तो जी माधवन नायर ने सबरीमाला मंदिर में आधी रात को दो रजस्वला महिलाओं के प्रवेश की घटना को ‘कायराना’ बताया है.

रिपोर्ट्स की माने तो जी माधवन नायर पहले भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के अध्यक्ष रह चुके हैं. जी माधवन नायर ने कहा कि, 'एलडीएफ सरकार को केरल में पिछले साल आई भीषण बाढ़ से तबाह राज्य के पुर्ननिर्माण पर फोकस करना चाहिए. इस भीषण बाढ़ के चलते राज्य में जबरदस्त तबाही मची थी.' इतना ही नहीं उन्होंने एक समाचा एजेंसी से बातचीत के दौरान कहा कि, 'सरकार ऐसे तुच्छ मुद्दे (सबरीमाला) पर अपनी ऊर्जा खर्च कर रही है जबकि बाढ़ से केरल में कितनी तबाही मची है.'

जी माधवन नायर ने अपने बयान में आगे ये भी कहा कि, 'पुनर्निर्माण और पुनर्वास कार्य धीमी गति से हो रहे हैं और इन चीजों में फंसे रहने के बजाय उन्हें राज्य के निर्माण के काम में ध्यान लगाना चाहिए.' आपकी जानकारी के लिए बता दें दो दिन पहले ही सबरीमाला मंदिर में करीब 40 साल की दो महिलाओं ने प्रवेश कर लिया था. अब जी माधवन नायर ने इस मुद्दे को मद्देनजर रखते हुए कहा कि, 'यह एक कायराना कार्रवाई है. कोई भी ऐसा कर सकता है. इसे आधी रात को किया गया... पूरा अभियान रात के अंधेरे में हुआ.'

नायर ने तो आगे ये भी कहा कि, 'सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद जो शुरुआती दिक्कत आई थी उसके बाद शांतिपूर्ण माहौल बना था. अब इसमें खलल पड़ गया है.' जब नायर से अयप्पा मंदिर में रजस्वला महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध को लेकर पूछा तो इसके जवाब में उन्होंने कहा कि, 'यह वहां के लोगों और श्रद्धालुओं की परंपरा रही है और किसी को भी इसका सम्मान करना होगा. मुझे नहीं लगता कि इसमें किसी संवैधानिकता की आवश्यकता है.'

सबरीमाला : महिलाओं के प्रवेश के बाद शुद्धिकरण के लिए बंद मंदिर फिर खुला

सबरीमाला पर बोली भाजपा सांसद, हिजड़ा बनकर रात में क्यों घुसी महिलाएं ?

जन्मदिन विशेष : आज 67 के हुए मोदी, 16 साल की उम्र में RSS में पाया था यह ख़ास मुकाम

रिलेटेड टॉपिक्स