'शिमला में तबाही का कारण बिहारी..', विवाद बढ़ने के बाद सीएम सुक्खू ने दी सफाई
'शिमला में तबाही का कारण बिहारी..', विवाद बढ़ने के बाद सीएम सुक्खू ने दी सफाई
Share:

शिमला: हिमाचल प्रदेश को प्रकृति के प्रकोप का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि बारिश से प्रभावित राज्य में मरने वालों की संख्या बुधवार को बढ़कर 71 हो गई है। सदियों पुराने शिमला शहर में भूस्खलन के कारण घर गिरने की कई घटनाएं सामने आई हैं, जिसमें कई लोग मारे गए और अन्य बेघर हो गए। इसी बीच राज्य के सीएम सुखविंदर सिंह सुक्खू ने एक इंटरव्यू में, घर गिरने की घटनाओं के लिए बिहार के वास्तुकारों को दोषी ठहराया था, जिस पर बवाल मच गया था। विवाद बढ़ने के बाद सीएम सुक्खू ने अब अपने बयान पर स्पष्टीकरण दिया है।

सीएम सुक्खू ने कहा था कि, "प्रवासी आर्किटेक्ट (राजमिस्त्री), जिन्हें मैं 'बिहारी आर्किटेक्ट' कहता हूं, यहां आते हैं और फ्लोर पर फ्लोर बनाते हैं। हमारे पास स्थानीय राजमिस्त्री नहीं हैं।" हालांकि बाद में उन्होंने सफाई दी कि उन्होंने ऐसा कुछ कहा ही नहीं (यानी बिहारियों को दोष नहीं दिया)। सीएम सुक्खू ने कहा कि, "मैंने ऐसा कुछ नहीं कहा। बिहार के लोग भी यहां फंसे हुए थे। मैंने उन्हें हेलीकॉप्टर से निकलवाया। बिहार के करीब 200 लोग अभी भी यहां फंसे हुए हैं। वे हमारे भाई की तरह हैं। यह हमारी संरचनात्मक इंजीनियरिंग की गलती है, वे सिर्फ मजदूर हैं।' बता दें कि, बारिश से प्रभावित हिमाचल प्रदेश में और शव बरामद होने से मरने वालों की संख्या बुधवार को 71 हो गई। रिपोर्ट के अनुसार, प्रधान सचिव (राजस्व) ओंकार चंद शर्मा ने कहा है कि, "पिछले तीन दिनों में कम से कम 71 लोगों की मौत हो गई है और 13 अभी भी लापता हैं। रविवार रात से कुल 57 शव बरामद किए गए हैं।" पहाड़ी राज्य में रविवार से भारी बारिश हो रही है, जिससे शिमला सहित कई जिलों में भूस्खलन हुआ है, जहां तीन इलाके- समर हिल, फागली और कृष्णा नगर भूस्खलन से बुरी तरह प्रभावित हैं।

राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र के अनुसार, 24 जून को मानसून की शुरुआत के बाद से राज्य में बारिश से संबंधित घटनाओं में कुल 214 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 38 अभी भी लापता हैं। शिमला के उपायुक्त आदित्य नेगी ने मीडिया को बताया कि, "समर हिल और कृष्णा नगर इलाकों में बचाव अभियान जारी है। समर हिल साइट से एक शव बरामद किया गया है।" उन्होंने कहा कि अब तक समर हिल से 13, फागली से पांच और कृष्णा नगर से दो शव बरामद किये गये हैं. समर हिल में सोमवार को ढहे शिव मंदिर के मलबे में अभी भी कुछ शवों के दबे होने की आशंका है। लगातार बारिश के कारण भूस्खलन की आशंका के कारण कृष्णा नगर में लगभग 15 घरों को खाली करा लिया गया है और परिवारों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित कर दिया गया है।

भारत के नेतृत्व पर अमेरिका को पूरा भरोसा, US स्वास्थय विभाग के सचिव जेवियर बेसेरा ने जमकर की तारीफ

'अपने गठबंधन सहयोगी DMK को खुश करने के लिए..', कर्नाटक की कांग्रेस सरकार पर क्यों भड़के पूर्व सीएम बोम्मई ?

क्या वसुंधरा राजे से किनारा कर रही भाजपा ? राजस्थान में बनाई दो अहम समितियां, एक में भी उनका नाम नहीं

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -