MP में BJP का बड़ा कदम, नरेंद्र सिंह तोमर को मिली बड़ी जिम्मेदारी
MP में BJP का बड़ा कदम, नरेंद्र सिंह तोमर को मिली बड़ी जिम्मेदारी
Share:

भोपाल: मध्य प्रदेश में कुछ महीने पश्चात् विधानसभा चुनाव हैं। सत्तारूढ़ भाजपा ने चुनावी रणनीति को जमीन पर उतारना आरम्भ कर दिया है। शनिवार को भाजपा हाईकमान ने केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है। तोमर को मध्य प्रदेश चुनाव प्रबंधन समिति का संयोजक बनाया गया है। तोमर महदी प्रदेश के मुरैना से सांसद हैं तथा ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में उनका अच्छा खासा जनाधार भी माना जाता है।

तोमर को संगठन में काम करने का भी लंबा अनुभव है। बयानबाजी से दूरी बनाकर रखते हैं तथा संगठन के लिए काम करने के लिए पहचाने जाते हैं। वे कई प्रदेशों में चुनाव प्रभारी भी रहे हैं। मध्य प्रदेश में पार्टी के अध्यक्ष रह चुके हैं। इसके अतिरिक्त, पार्टी में विभिन्न पदों पर जिम्मेदारी निभाई है। राष्ट्रीय महासचिव तक बने। तोमर को लेकर कहा जाता है कि उनके पार्टी के क्षेत्रीय नेताओं से भी अच्छे संबंध हैं। कम वक़्त में ही जमीनी कार्यकर्ताओं से जुड़ाव बना लेते हैं। शांत स्वभाव एवं कार्यकर्ताओं को लेकर आगे बढ़ाने की खूबी उन्हें लोकप्रिय बनाती है। भाजपा के अंदर यह भी कहा जाता है कि मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान एवं नरेंद्र सिंह तोमर की जोड़ी का ट्रैक रिकॉर्ड परिणाम देने वाला रहा है। तोमर 2008 एवं 2013 के चुनाव के समय पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रहे। इन दोनों चुनावों में भाजपा ने जबरदस्त जीत हासिल की थी। 2018 में जब भाजपा चुनाव हारी, तब राकेश सिंह प्रदेश अध्यक्ष थे। उनसे पहले नंद कुमार चौहान प्रदेश अध्यक्ष थे। 

तोमर ने स्टूडेंट पॉलिटिक्स से करियर का आरम्भ किया। छात्र संघ अध्यक्ष रहे। तत्पश्चात, ग्वालियर नगर निगम में पार्षद चुने गए थे। युवा मोर्चा की जिम्मेदारी भी संभाली। 1998 में पहली बार विधानसभा का चुनाव जीता था। 2003 में फिर विधायक बने तथा उमा भारती की कैबिनेट में मंत्री बनाए गए। 2009 में पहली बार मुरैना से सांसद चुने गए। उन्होंने 2014 एवं 2019 का आम चुनाव भी जीता। तोमर के सामने बड़ी चुनौतियां भी हैं। चूंकि, वो ग्वालियर-चंबल क्षेत्र से आते हैं तथा 2018 के विधानसभा चुनावों में यहां से भाजपा को निराशा हाथ लगी थी। जबकि कांग्रेस ने जबरदस्त बढ़त बनाई थी। ऐसे में भाजपा नेतृत्व के सामने प्रदर्शन को सुधारने और जीत हासिल करने के लिए संगठन में सामंजस्य बनाने की चुनौती है। तोमर को स्थानीय होने के कारण इसका बड़ा फायदा मिल सकता है।

आज़म खान को कोर्ट से फिर लगा झटका, हेट स्पीच केस में मिली 2 साल की जेल

पाकिस्तान में लड़कियों से अधिक लड़के हो रहे बलात्कार के शिकार- देश की सरकारी रिपोर्ट में हुआ खुलासा

'मणिपुर पर युरोपियन यूनियन चर्चा कर रहा और PM मोदी राफेल खरीद रहे..', फ्रांस दौरे पर राहुल गांधी का हमला

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -