इन बैंकों के सेविंग अकाउंट में मिलेगा सबसे अधिक ब्याज

इन बैंकों के सेविंग अकाउंट में मिलेगा सबसे अधिक ब्याज

यह बात तो हर कोई जानता है कि आपका वेतन, निवेश और लोन ईएमआई बचत खातों द्वार संचालित किया जाता हैं. लेकिन इन सब बातों में हम यह बात भूल जाते है, कि किस खातें में हमें ​अधिक ब्याज मिलने वाला है. ​जिसकी वजह से हमारे बचत बैंक खातों में पड़े फंड से मामूली ब्याज दर प्राप्त होती है. लेकिन कुछ बैंक, विशेष रूप से छोटे या नए, आपके बची राशि पर उच्च ब्याज दर का भुगतान करते हैं. यह नए व्यवसाय को बैंकों में बढ़ाने के लिए किया जाता है. बड़े बैंक, चाहें वो सरकारी स्वामित्व वाले हों या निजी क्षेत्र से, जमाकर्ताओं को बहुत कम ब्याज दर देते हैं.

नहीं रखी जाएगी सरोज खान के लिए प्रार्थना सभा, जानिए वजह

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि IndusInd Bank ग्राहकों को बचत खाता खुलवाने पर 4% से 6% प्रतिशत का ब्याज प्राप्त होता है. जिसके लिए मासिक बैंलेस 1500 से 2500 रू के बीच होना चाहिए  AU Small Finance Bank 4 फीसद से 7 फीसद तक ब्याज देता है. इसमें 2000 रुपये से 5000 रुपये तक का बैलेंस जरूरी होता है. DCB बैंक 3.25 फीसद से 5.5 फीसद तक का ब्याज देता है, इसमें खाते में 5000 रुपये रखना जरूरी है. वही, YES Bank की करें तो यह बचत खाते पर 4 से 6 फीसद का ब्याज देता है. इसमें दस हजार रुपये का बैलेंस जरूरी है. Ujjivan Small Finance Bank 4 से 6.5 फीसद का ब्याज देता है. इसमें कोई बैलेंस मेंटेन करने का झंझट नहीं है. Bandhan Bank 4 से 7.15 फीसद का रिटर्न देता है, इसमें खाते में 5000 रुपये का बैलेंस रखना जरूरी है. 

इस माह में सुधरा सेवा क्षेत्र

अगर आपको नही पता तो बता दे कि Lakshmi Vilas Bank 3.25 से 6 प्रतिशत का ब्याज बचत खातों पर देता है. जिसका लाभ लेने के लिए खाते में 500 रू रखना आवश्यक है. वही,  RBL Bank 5 फीसद से 6.75 फीसद तक का ब्याज देता है. इसमें 2500 से 5000 रुपये तक का बैलेंस रखना जरूरी है. IDFC First Bank की बात करें तो यह 6 फीसद से 7 फीसद तक का ब्याज देता है. इसमें खाते में 10000 रुपये बैलेंस रखना जरूरी है.    

अर्थव्यवस्था पर कोरोना की मार, नई कंपनियों के पंजीकरण में आई भारी गिरावट

चीन को पीएम मोदी का सख्त सन्देश, कहा- विस्तारवाद का युग ख़त्म, अब विकासवाद का समय

कोरोना मरीजों को अपने खर्चे से अस्पताल पहुंचाता है ये बहादुर जवान