बगावत ज़माने से

बगावत ज़माने से

श्क़ में कर ली है, बगावत ज़माने से...!!
देखते है मंज़िल कितनी मुश्किलों के, बाद मिलती है.....!!