अयोध्या मामला: जब CJI ने निर्मोही अखाड़े से पूछ लिया, रामजन्मभूमि में एंट्री कहां से होती है ?

Aug 06 2019 01:06 PM
अयोध्या मामला: जब CJI ने निर्मोही अखाड़े से पूछ लिया, रामजन्मभूमि में एंट्री कहां से होती है ?

नई दिल्ली: अयोध्या में रामजन्मभूमि और बाबरी मस्जिद विवाद पर 6 अगस्त से सर्वोच्च न्यायालय में प्रतिदिन सुनवाई शुरू हो गई है। मंगलवार को पहले दिन निर्मोही अखाड़े ने अपना पक्ष अदालत के सामने रखा। इस दौरान निर्मोही अखाड़े ने वहां पर पूजा करने के अधिकार की मांग की, इसी बीच मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने निर्मोही अखाड़े से सवाल किया कि रामजन्मभूमि में एंट्री कहां से होती है?

दरअसल, इस मामले पर जब सुनवाई आरंभ हुई तो सबसे पहले निर्मोही अखाड़े ने वहां पर अपना पक्ष रखना शुरू किया। निर्मोही अखाड़ा ने कहा कि उन्हें वहां पूजा का अधिकार दिया जाना चाहिए। किन्तु तभी मुख्य न्यायाधीश ने इस मामले से सम्बंधित कुछ बुनियादी सवाल पूछने शुरू किए, CJI के साथ-साथ न्यायमूर्ति नजीर ने भी निर्मोही अखाड़े से कहा कि आप सबसे पहले अपनी बात अदालत के समक्ष रख रहे हैं, इसलिए पूरे मामले को शुरुआत से बताएं।

इस पर निर्मोही अखाड़े ने सर्वोच्च न्यायालय से कहा कि हमसे पूजा का अधिकार छीना गया है। शीर्ष अदालत ने बहस के दौरान निर्मोही अखाड़े से पूछा कि क्या कोर्टयार्ड के बाहर सीता रसोई स्थित है? इसके अलावा मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने कहा कि हमारे सामने वहां के स्ट्रक्चर पर स्थिति स्पष्ट करें। CJI गोगोई ने पूछा कि वहां पर एंट्री कहां से होती है? सीता रसोई से या फिर हनुमान द्वार से? इसके अलावा मुख्य न्यायाधीश गोगोई ने पूछा कि निर्मोही अखाड़ा कैसे पंजीकृत हुआ? आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने पहले मामले को मध्यस्थता के जरिए सुलझाने के लिए वक़्त दिया था, लेकिन समाधान ना निकलने पर अब अदालत रोज़ाना सुनवाई कर रही है।

अर्थव्यवस्था में जान डालने के लिए कल से मीटिंग शुरू करेंगी वित्त मंत्री

पेट्रोल के मूल्य में आई कमी,जाने नई कीमत

CII ने सरकार से 5जी स्पेक्ट्रम का बेस प्राइस कम रखने का आग्रह किया