'आतिशी मार्लेना हाज़िर हों..', AAP मंत्री को कोर्ट का समन, इस तारीख को पेश होने का आदेश
'आतिशी मार्लेना हाज़िर हों..', AAP मंत्री को कोर्ट का समन, इस तारीख को पेश होने का आदेश
Share:

नई दिल्ली: दिल्ली की एक अदालत ने दिल्ली भाजपा के मीडिया प्रमुख प्रवीण शंकर कपूर द्वारा दायर मानहानि मामले में दिल्ली की मंत्री और AAP नेता आतिशी मार्लेना को तलब किया है। आतिशी को 29 जून को कोर्ट में पेश होने के लिए कहा गया है। यह मामला आतिशी द्वारा लगाए गए आरोपों से संबंधित है कि भाजपा ने AAP विधायकों को रिश्वत देने और खरीद-फरोख्त करने का प्रयास किया है।

कपूर, जिन्होंने मानहानि मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का भी नाम लिया था, ने दावा किया कि आरोपों से उनकी और उनकी पार्टी की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचा है। आरोपों पर संज्ञान लेते हुए कोर्ट ने आतिशी को आरोपी के तौर पर चिन्हित किया और उन्हें 29 जून को पेश होने का आदेश दिया। भाजपा नेता ने 30 अप्रैल को मानहानि का मामला दायर किया था, जिसमें आरोप लगाया गया था कि AAP नेता अपने फर्जी खरीफ-फरोख्त के दावों को साबित करने के लिए कोई भी सामग्री प्रस्तुत करने में विफल रहे। 

अदालत में अपने आवेदन में कपूर ने अरविंद केजरीवाल के एक सोशल मीडिया पोस्ट का हवाला दिया जिसमें AAP सुप्रीमो ने आरोप लगाया था कि भाजपा ने सात AAP विधायकों से संपर्क किया था और पाला बदलने के लिए 25 करोड़ रुपये की पेशकश कर रही थी। उन्होंने आतिशी मार्लेना के दावे का भी हवाला दिया कि उन्हें अपने "राजनीतिक करियर" को "बचाने" के लिए भाजपा में शामिल होने का प्रस्ताव मिला था, जिसमें विफल रहने पर उन्हें प्रवर्तन निदेशालय (ED) द्वारा गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

आतिशी मार्लेना ने कहा था कि, "भाजपा ने किसी बहुत करीबी के जरिए मुझसे संपर्क किया है। उन्होंने मुझे बीजेपी में शामिल होने के लिए कहा है और कहा है कि इससे मेरा राजनीतिक करियर बच जाएगा। उन्होंने धमकी दी है कि अगर मैं बीजेपी में नहीं आई तो ईडी मुझे एक महीने के भीतर गिरफ्तार कर लेगी।" AAP नेता ने यह भी दावा किया कि उन्हें पार्टी सहयोगियों सौरभ भारद्वाज, राघव चड्ढा और दुर्गेश पाठक के साथ अगले दो महीनों में गिरफ्तार कर लिया जाएगा। अपनी याचिका में बीजेपी नेता ने आतिशी द्वारा टीवी और सोशल मीडिया पर की गई टिप्पणी को वापस लेने और माफी मांगने की मांग की है। 

बता दें कि, इसी तरह के दावे AAP कई बार कर चुकी है, लेकिन वो भाजपा नेता का नाम या फोन नंबर नहीं बता पाती, जिसके द्वारा उनसे संपर्क किया गया था। केजरीवाल ने एक बार नितिन गडकरी और अरुण जेटली का नाम लेकर आरोप लगाए थे। लेकिन दोनों ही भाजपा नेताओं ने केजरीवाल को कोर्ट में खींच लिया था, जहाँ अपने पास कोई सबूत न होने के कारण केजरीवाल को लिखित में बिना शर्त माफ़ी मांगनी पड़ी थी। इसके बाद से AAP किसी का भी नाम नहीं लेती है, लेकिन आरोप लगाना जारी है। यदि किसी ने AAP नेताओं से भाजपा ने आने का संपर्क किया है, तो पार्टी को कोर्ट में उसका पूरा खुलासा करना चाहिए, वरना फर्जी आरोप लगाने से पार्टी की छवि को काफी नुकसान हो सकता है। 

'तू औरत नहीं किन्नर है..', निकाह के अगले ही दिन पति ने तलाक देकर पत्नी को घर से निकाला, बीवी ने भी लगाए गंभीर आरोप

बांग्लादेश को तोड़कर कौन बनाना चाह रहा अलग ईसाई देश ? पीएम शेख हसीना ने जताई चिंता

राजस्थान में भोज का खाना खाते ही बिगड़ी 22 लोगों की तबियत, 3 की मौत

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
Most Popular
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -