Share:
क्या आपको भी गर्दन और अंडरआर्म्स में निकल रहे मस्से? तो ना करें अनदेखा, हो सकती है ये गंभीर बीमारी
क्या आपको भी गर्दन और अंडरआर्म्स में निकल रहे मस्से? तो ना करें अनदेखा, हो सकती है ये गंभीर बीमारी

त्वचा पर उभार और मस्सों को अक्सर सामान्य माना जाता है, लेकिन कभी-कभी ये अंतर्निहित स्वास्थ्य समस्याओं का संकेत भी दे सकते हैं। यह महत्वपूर्ण है कि उभरे हुए उभारों की उपस्थिति को नज़रअंदाज न करें, खासकर गर्दन या अंडरआर्म्स के आसपास। मूल कारण को समझे बिना उन्हें मलहम, क्रीम या घरेलू उपचार से हटाने का प्रयास करने से गंभीर परिणाम हो सकते हैं। किसी भी उपचार पर निर्णय लेने से पहले, त्वचा पर असामान्य उभारों के उभरने के पीछे के कारणों की पहचान करना आवश्यक है।

चिंता के सामान्य क्षेत्र:
गर्दन या अंडरआर्म्स के आसपास नीले रंग के धक्कों को हटाने का प्रयास करने से पहले सावधानीपूर्वक जांच की आवश्यकता होती है। किसी भी उपचार को चुनने से पहले डॉक्टर से परामर्श करना और आवश्यक परीक्षण कराना महत्वपूर्ण है। आइए इन उभारों के विकास के पीछे के कुछ संभावित कारणों का पता लगाएं।

ह्यूमन पैपिलोमावायरस (एचपीवी):
यदि चेहरे की त्वचा पर दाने दिखाई देते हैं, तो मानव पैपिलोमावायरस (एचपीवी) की उपस्थिति एक संभावित कारण हो सकती है। आरएमएल अस्पताल के डॉ. भावुक धीर इस बात पर जोर देते हैं कि एचपीवी त्वचा पर उभार का कारण बन सकता है। इसलिए, त्वचा पर किसी भी कट या घाव पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है, क्योंकि एचपीवी ऐसे छिद्रों के माध्यम से शरीर में प्रवेश कर सकता है।

इंसुलिन असंतुलन:
शरीर में इंसुलिन के स्तर में असंतुलन के कारण भी त्वचा पर दाने हो सकते हैं। इन उभारों को हटाने का प्रयास करने से पहले, पूरी तरह से चिकित्सीय जांच कराना आवश्यक है। आहार संबंधी आदतों को समायोजित करना, अतिरिक्त चीनी का सेवन कम करना और फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करने से इंसुलिन संतुलन बनाए रखने में मदद मिल सकती है।

संक्रमण और स्वच्छता:
एचपीवी या अन्य वायरस से उत्पन्न संक्रमण से त्वचा पर दाने विकसित हो सकते हैं। ऐसे मामलों में, संक्रमित त्वचा वाले व्यक्तियों को संक्रमण फैलने से रोकने के लिए तौलिये, साबुन और शेविंग किट साझा करने से बचना चाहिए। संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए उचित स्वच्छता प्रथाएँ आवश्यक हैं।

त्वचा कैंसर का खतरा:
त्वचा में परिवर्तन, जैसे पैच का अचानक दिखना, उभारों के आकार में वृद्धि, या तिल जैसी संरचनाओं से रक्तस्राव, को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। ये त्वचा कैंसर के लक्षण हो सकते हैं, और तत्काल चिकित्सा ध्यान देना आवश्यक है। शीघ्र पता लगाने के लिए त्वचा की नियमित जांच और स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से शीघ्र परामर्श महत्वपूर्ण है।

निष्कर्षतः, त्वचा के उभारों को हटाने का प्रयास करने से पहले, मूल कारण को समझना महत्वपूर्ण है। चाहे वह एचपीवी हो, इंसुलिन असंतुलन हो, संक्रमण हो, या संभावित त्वचा कैंसर हो, चिकित्सीय सलाह लेना अनिवार्य है। अच्छी स्वच्छता प्रथाओं को बनाए रखना और संक्रमण के जोखिम के बारे में सतर्क रहना समग्र त्वचा स्वास्थ्य में योगदान दे सकता है।

त्वचा के स्वास्थ्य के लिए सक्रिय दृष्टिकोण अपनाने में नियमित जांच, संतुलित आहार अपनाना और त्वचा की उपस्थिति में किसी भी असामान्य परिवर्तन के प्रति सचेत रहना शामिल है। याद रखें, त्वचा संबंधी चिंताओं को प्रभावी ढंग से संबोधित करने और जटिलताओं के जोखिम को कम करने के लिए उचित निदान और चिकित्सा मार्गदर्शन आवश्यक है।

दिल्ली में धुंध का कहर, वायु गुणवत्ता फिर 'खतरनाक स्तर' पर पहुंची

सुबह उठने के बाद हो रहा है बदन दर्द तो ना करें इग्नोर, जानिए इसका कारण

कॉन्टैक्ट लेंस लगाने से पहले इन जरुरी बातों का रखें ध्यान, वरना जा सकती है आंखों की रोश

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -