येदियुरप्पा के इस्तीफा देते ही, आपस में भिड़े शाह-राहुल

बंगलुरु: कर्नाटक की सियासत में शनिवार को जबरदस्त उलटफेर हुई, 104 सीटें लाकर सत्ता में आने का सपना देख रही भाजपा के सपने उस समय चूर-चूर हो गए जब वो बहुमत पेश करने के लिए 8 विधायक जुटाने में नाकाम रही और 2 दिन के मुख्यमंत्री बने भाजपा प्रत्याशी येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद छोड़ना पड़ा. जिसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बीच जुबानी जंग तेज़ हो गई.

अमित शाह ने कर्नाटक में जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन की भावी सरकार ‘अपवित्र गठबंधनों’ की सरकार बताया. इसपर राहुल गांधी ने पलटवार करते हुए बीजेपी को संवैधानिक संस्थाओं को 'अपमान' करने वाली पार्टी कहा. शाह ने उन आरोपों को खारिज किया जिसके तहत कहा जा रहा था कि बीजेपी ‘हॉर्स ट्रेडिंग’ की कोशिश कर रही थी. कर्नाटक में सरकार गिरने के बाद शनिवार को एक कार्यक्रम में अमित शाह ने कहा कि बीजेपी किसी तरह के जोड़-तोड़ में शामिल नहीं थी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने ना सिर्फ हॉर्स ट्रेडिंग की बल्कि ‘पूरा अस्तबल ही बेच खाया.’

राहुल गाँधी ने पीएम नरेंद्र मोदी को भ्रष्टाचारी कहने पर जवाब देते हुए, अमित शाह ने कहा कि हम कांग्रेस की टिप्पणियों को गंभीरता से नहीं लेते. इससे पहले राहुल ने आरोप लगाया कि पीएम ने विधायकों को ‘खरीदने’ को इजाजत दी और वह सभी संवैधानिक संस्थाओं का ‘अपमान’ कर रहे हैं. राहुल ने यह भी आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री मोदी भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रहे हैं और वह खुद ‘भ्रष्टाचारी’ हैं. राहुल ने कहा था कि इसके सबूत के रूप में ऑडियो रिकॉर्डिंग सबके सामने है.  

कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण में दिखेगी विपक्ष की एकता

अपवित्र गठबंधन वाली सरकार ज्यादा लम्बी नहीं चलेगी - अमित शाह

कुमारस्वामी बुधवार को लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -