चीन के साथ नरमी सवाल ही नहीं-अमेरिका

अमेरिका: संयुक्त राज्य अमेरिका ने चीन के खिलाफ उठाए जा रहे कदमों पर पीछे हटने से साफ इन्कार किया है. व्हाइट हाउस ने साफ किया कि जब तक चीन गैरवाजिब कारोबारी गतिविधियों और बौद्धिक संपदा की चोरी पर अंकुश नहीं लगाता तब तक उसके खिलाफ अमेरिका की कार्रवाई जारी रहेगी.

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने कहा, 'राष्ट्रपति ने कहा है कि अब बहुत हो चुका. चीन को गैरकानूनी और गैरवाजिब कारोबारी गतिविधियों पर लगाम लगाना ही होगा. पिछली सरकारों को बहुत पहले ऐसे कदमों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए थी. बहरहाल, खुशी की बात यह है कि वर्तमान राष्ट्रपति इन कदमों के खिलाफ खड़े होने और कुछ साहसिक कार्रवाई करने की क्षमता रखते हैं.'

मौजूदा घटनाओं के बाद अमेरिकी शेयर बाजारों में 500 से ज्यादा अंकों की गिरावट आई है. इस बारे में एक सवाल पर सैंडर्स ने कहा कि हम सब जानते हैं कि थोड़ा उतार-चढ़ाव आना ही है. लेकिन हम चाहते हैं कि चीन अपनी गैरवाजिब कारोबारी गतिविधियां बंद करे. चीन के इन कदमों से अमेरिकी कारोबार और कारोबारियों को बड़ा नुकसान हो रहा है. रिपब्लिकन सिनेटर जॉन मैक्केन ने कहा है कि चीन को दंडित करना आसान है. लेकिन उसे जिम्मेदार ठहराना और उसके व्यवहार में बदलाव लाना बेहद कठिन काम है.

ब्राजील: पूर्व राष्ट्रपति लूला का आत्मसमर्पण

अमेरिकी प्रतिबन्ध पर रूस ने दिए कड़े कदम उठाने के संकेत

ट्रंप फिर विवादों में

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -