इस किले में आज भी मौजूद है पारस पत्थर, नहीं खोज पाते लोग